नोहर में वर्षों चल रही सिचाई-पानी चोरी की समस्या का होगा अंत, खुलेगा अलग से पुलिस थाना

किसानों ने बताया कि दशकों से चली आ रही सिंचाई पानी चोरी की घटनाएं अब पूर्णता रुकेगी और किसानों को उनके हिस्से का सिंचाई पानी टेल तक मिलेगा.

नोहर में वर्षों चल रही सिचाई-पानी चोरी की समस्या का होगा अंत, खुलेगा अलग से पुलिस थाना
नोहर में वर्षों चल रही सिचाई-पानी चोरी की समस्या का होगा अंत.

Hanumangarh: नोहर में वर्षों से चली आ रही सिंचाई पानी चोरी की समस्या का अब स्थाई समाधान होगा. सिचाई पानी चोरी की समस्या क्षेत्र की सबसे ज्वलंत समस्या बन गई थी. राज्य सरकार ने सिंचाई पानी चोरी रोकने के लिए अलग से पुलिस थाना खोलने की स्वीकृति जारी कर दी है. उक्त पुलिस थाना शुरू होने के बाद सिंचाई पानी चोरी पर प्रभावी अंकुश लगेगा संभवत यह पुलिस थाना राजस्थान का ऐसा पहला पुलिस थाना होगा जो सिंचाई पानी चोरी रोकने के लिए कार्य करेगा.

संयुक्त शासन सचिव ग्रह रामनिवास मेहता ने नोहर में खुलने वाले नए सिंचाई पुलिस थाना के लिए नवीन पद एवं संसाधनों के लिए प्रशासनिक व वित्तीय स्वीकृति जारी कर दी है. सिचांई पुलिस थाना खुलने को हरी झंडी मिलने के बाद क्षेत्र के किसानों में खुशी की लहर है.

किसानों ने बताया कि दशकों से चली आ रही सिंचाई पानी चोरी की घटनाएं अब पूर्णता रुकेगी और किसानों को उनके हिस्से का सिंचाई पानी टेल तक मिलेगा. किसानों ने इसे ऐतिहासिक कार्य बताते हुए राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व विधायक अमित चाचाण का आभार व्यक्त किया है.

किसानों ने कहा कि विधायक अमित चाचाण के लगातार प्रयासों के बाद ही यह संभव हो पाया है किसानों के अनुसार पहली बार किसी जनप्रतिनिधि ने सिंचाई पानी चोरी के मामले को इतना गंभीरता से लेते हुए सिंचाई पानी चोरी रोकने के लिए कार्य किए है. बता दें कि विधायक अमित चाचाण नोहर में अलग से सिंचाई पुलिस थाना खुलवाने के लिए लंबे समय से प्रयासरत थे.
 
विधायक ने विधानसभा में आवाज उठाने के अलावा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से व्यक्तिगत रूप से मिलकर इस संबंध में उन्हें संपूर्ण पत्रावली सौंपी थी. विधायक अमित चाचाण ने बताया कि विधायक बनने के बाद उनका हर दिन हर समय यही प्रयास रहा की क्षेत्र के किसानों को उनके हिस्से का पूरा सिचांई पानी मिले.

चाचाण के अनुसार, पीछे के जनप्रतिनिधियों की उदासीनता के कारण सिंचाई पानी चोरी माफिया पनपे. क्षेत्र के किसानों को उनके हिस्से का पूरा पानी दिलाने के लिए विधायक अमित चाचाण लगातार 7 दिनों तक दिन रात नहर किनारे तंबू लगाकर पानी की निगरानी कर चुके हैं. सरकार के  प्रत्येक प्लेटफार्म पर सिंचाई पानी चोरी का मामला उठाया. विधायक अमित चाचाण ने बताया कि चुनाव के समय जनता से किया गया एक-एक वादा पूरा किया जा रहा है. 

इन परियोजनाओं से होती है सिंचाई
नोहर भादरा क्षेत्र में नोहर सिंचाई परियजना, अमरसिंह ब्रांच प्रणाली, सिधमुख परियोजना से सिंचाई होती है. तीनों परियोजनाओं से नोहर भादरा क्षेत्र में करीब 1 लाख 70 हजार हेकटेयर भूमि पर सिचांई होती है. सिंचाई पानी चोरी का मामला दशकों से चला रहा है. समय-समय पर इस को लेकर कई बड़े आंदोलन भी हुए हैं. विशेषकर भादरा क्षेत्र में बड़े पैमाने पर सिचांई पानी चोरी होने से नोहर क्षेत्र के किसानों को टेल तक सिंचाई पानी की एक बूंद भी नहीं मिलती.

सिंचाई पानी चोरी पर लगेगा प्रभावी अंकुश
अलग से शिंचाईं पुलिस थाना खुलने पर सिंचाई पानी चोरी की घटनाओं पर प्रभावी अंकुश लगेगा. पूर्व में सिंचाई पानी चोरी के मुकदमे क्षेत्राधिकार को लेकर समय पर दर्ज नहीं होते थे. इसके अलावा प्रभावी गश्त भी नहीं हो पाती थी. अलग से पुलिस थाना खुलने पर नहरों की प्रभावी गस्त होगी व रेगुलेशन के दौरान पूर्णतया निगरानी रखी जा सकेगी.

नए पुलिस थाना में 60 का रहेगा जाब्ता
नव स्वीकृत सिंचाई पुलिस थाना में एक सीआई के अलावा 5 एसआई, 6 एएसआई, 8 कांस्टेबल के अलावा 40 कांस्टेबल के पद स्वीकृत किए गए हैं. नव गठित पुलिस थाना में 1 जीप व 2 मोटरसाइकिल भी स्वीकृत किए गए हैं.

नोहर सिंचाई कॉलोनी में खुलेगा थाना
नवगठित पुलिस थाना नोहर सिंचाई कॉलोनी में खुलेगा सिचाई कॉलोनी में सिंचाई विभाग का कार्यालय भी है. कॉलोनी में खाली पड़े भवन में थाना खुलेगा. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेंद्र मीणा ने बताया कि सिंचाई कॉलोनी में पुलिस थाना खोलने के लिए पूर्व में प्रस्ताव बनाकर भेजवाया जा चुका था, जिस को हरी झंडी मिल चुकी है.

क्षेत्र के लिए ऐतिहासिक दिन
विभिन्न किसान संगठनों से जुड़े पदाधिकारियों के अलावा किसानों ने बताया कि अलग से सिंचाई पुलिस थाना खुलना क्षेत्र के लिए ऐतिहासिक है. उन्होंने बताया कि सिंचाई पानी चोरी रोकने से किसानों की आय बढ़ेगी और साथ ही किसानों को उनके हिस्से का पूरा पानी मिल सकेगा.