घोषणा पत्र के नाम पर झूठ का पुलिंदा लेकर आई है BJP: खाचरियावास

खाचारियावास ने कहा कि जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र ऑनलाइन बनाने का वादा विजन डॉक्यूमेंट में किया गया है. यह काम पहले से ही ऑनलाइन ही हो रहा है. बीजेपी के नेता अपडेट नहीं है.

घोषणा पत्र के नाम पर झूठ का पुलिंदा लेकर आई है BJP: खाचरियावास
राजस्थान सरकार में मंत्री प्रताप सिंह खाचारियावास. (फाइल फोटो)

शशि मोहन/जयपुर: राजस्थान में नगर निगम चुनाव के लिए बीजेपी ने अपना विजन डॉक्यूमेंट जारी किया है. अब इसको लेकर प्रताप सिंह खाचरियावास ने निशाना साधा है. दरअसल, बीजेपी का विजन डॉक्यूमेंट कांग्रेस के संकल्प पत्र के बाद आया है. उन्होंने कहा कि बीजेपी झूठ का पुलिंदा लेकर आई है. कांग्रेस के संकल्प पत्र से बहुत से बिंदु कॉपी किए गए हैं.

खाचारियावास ने कहा कि जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र ऑनलाइन बनाने का वादा विजन डॉक्यूमेंट में किया गया है. यह काम पहले से ही ऑनलाइन ही हो रहा है. बीजेपी के नेता अपडेट नहीं है. बीजेपी का विजन डॉक्यूमेंट की हार की हताशा दर्शा रहा है. केंद्रीय मंत्री से झूठ का पुलिंदा जारी करवाया है.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार के किए हुए कामों को विजन डॉक्यूमेंट में गिनवा दिया. खाचरियावास ने कहा कि बीजेपी के विजन डॉक्यूमेंट पर पूर्व सीएम वसुंधरा राजे की फोटो नहीं है. जबकि पूर्व मुख्यमंत्रियों का फोटो लगता रहा है. वहीं, कांग्रेस के घोषणापत्र पर सचिन पायलट का फोटो नहीं होने के सवाल पर खाचरियावास ने कहा कि सचिन पायलट अभी प्रदेशाध्यक्ष नहीं है. वे सीएम नहीं रहे हैं. पूर्व सीएम का ही फोटो लगता है.

कांग्रेस नेता ने कहा कि बीजेपी के घोषणा पत्र में वसुंधरा राजे का फोटो नहीं है. इसका मतलब यह है कि बीजेपी उनके विजन को नहीं मानती हैं. बता दें कि कांग्रेस के बाद अब बीजेपी ने भी निगम चुनाव के लिए अपना संकल्प पत्र जारी किया है. अन्तर इतना जरूर है कि इससे पहले सत्ताधारी पार्टी और सरकार पर हमलावर होते हुए बीजेपी ने ब्लैक पेपर भी जारी किया था. 

अब केंद्रीय मंत्री अर्जुनराम मेघवाल के साथ ही पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी बीजेपी का विजन डॉक्यूमेंट सामने लाए हैं. बीजेपी ने अपने संकल्प-पत्र में 40 मुद्दे शामिल किए हैं. इसमें नगर निगम को आत्मनिर्भर बनाने के साथ हर वार्ड में सामुदायिक भवन और दूसरे संसाधनों के जरिए इन निकायों में आमजन के जीवन को आसान बनाने का लक्ष्य बताया है. 

इस संकल्प पत्र में कच्ची बस्तियों के पट्टे जारी करने से लेकर कोरोना काल में स्टूडेंट्स की फीस माफ करने के बदले स्कूलों से यूडी टैक्स नहीं लिए जाने तक की बात कही है. जयपुर में  4.0 टेक्नोलॉजी का शुरू करने का भी जिक्र किया गया है.