close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान श्रम मंत्री का आरोप, बीजेपी के श्रमिक कार्ड घोटाले से मजदूर परेशान

राजस्थान के श्रम मंत्री टिकाराम जुली ने आरोप लगाया है कि भाजपा सरकार ने अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए श्रमिक कार्ड का इस्तेमाल किया.

राजस्थान श्रम मंत्री का आरोप, बीजेपी के श्रमिक कार्ड घोटाले से मजदूर परेशान
श्रम मंत्री टिकाराम जुली ने बीजेपी पर घोटाला करने का आरोप लगाया है. (फाइल फोटो)

मानवीर सिंह चुंडावत/अजमेरः राजस्थान के श्रम मंत्री टिकाराम जुली ने आरोप लगाया है कि भाजपा सरकार ने अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए श्रमिक कार्ड का इस्तेमाल किया. जिसके चलते वास्तविक मजदूर सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं ले पा रहे थे. टिकाराम जुली ने दावा किया है कि प्रदेश में 25 से 30 प्रतिशत श्रमिक कार्ड फर्जी पाए गए हैं, और इस मामले में सरकार लगातार अधिकारियों और इ-मित्र संचालकों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर रही है.

मंत्री टिकाराम मंगलवार को पत्रकारों से बात करते हुए खुले शब्दों में भाजपा पर प्रहार करते हुए आरोप लगाया कि भाजपा ने सरकार में रहते हुए मजदूरों के हको पर डाका डाला और श्रमिक कार्ड अपने चहेतों और भाजपा कार्यकर्ताओं के बनाये गये. टिकाराम जुली के अनुसार शिकायतों के बाद जब श्रमिक कार्ड्स की जांच करवाई गयी तो पूरा घोटाला सामने आ गया. 

मंत्री टिकाराम जुली की मानें तो पच्चीस से तीस प्रतिशत श्रमिक कार्ड फर्जी पाए गये जो नियमो को टाक में रख कर बनाये गये थे. मंत्री टिकाराम जुली ने जानकारी दी है कि इस पुरे मामले की जांच में जिन अधिकारियों के नाम सामने आये उनके खिलाफ सरकार ने कार्रवाई की है. साथ ही इस पुरे मामले में संदिग्ध भूमिका वाले 27 इ-मित्र संचालकों के खिलाफ भी क़ानूनी कार्रवाई करते हुए मुकदमे दर्ज करवाए गए हैं.

मंत्री टिकाराम जुली ने दावा किया कि फेजी श्रमिक कार्ड्स का पूरा खेल भाजपा सरकार की सहमती से ही चल रहा था. जिसका नुकसान उन मजदूरों को उठाना पड़ रहा था. जो विभिन्न सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं ले पा रहे थे. मंत्री ने जानकारी दी कि पिछली भाजपा सरकार द्वारा आठ श्रमिक योजना के करोड़ों रुपयों का भुगतान बकाया चल रहा था. गरीब मजदूरों को लाभ पहुंचाने के लिए अब राज्य सरकार ने बकाया सभी भुगतान करने को अपनी प्राथमिकता माना है, और आने वाले कुछ ही समय में सभी बकाया भुगतान श्रमिकों को कर दिए जाने की कवायद शुरू कर दी है.