close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान चुनाव : हरीश मीणा, सचिन पायलट की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल

पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान चुनाव में अपने भाई नमोनारायण मीणा को मात देने वाले हरीश मीणा आज सचिन पायलट की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं.

राजस्थान चुनाव : हरीश मीणा, सचिन पायलट की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल
हरीश मीणा कांग्रेस में हुए शामिल (फोटो साभार-ANI)

नई दिल्ली/जयपुर: पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान चुनाव में अपने भाई नमोनारायण मीणा को मात देने वाले हरीश मीणा बुधवार को सचिन पायलट की मौजूदगी में कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं. इस दौरान राजधानी दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय में राजस्थान पीसीसी अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि हरीश मीणा का पूरा परिवार कांग्रेस में रहा है और अब दोनों भाई मिलकर कांग्रेस को मजबुत करने का काम करेंगे.

इस दौरान कांग्रेस के नेता सचिन पायलट के अलावा कांग्रेस नेता अशोक गहलोत भी मौजूद थें.


कांग्रेस मुख्यालय में हरीश मीणा के साथ अशोक गहलोत (फोटो साभार-एएनआई)

वैसे प्रेस कांफ्रेंस के दौरान हरीश मीणा ने कहा कि वो बिना शर्त कांग्रेस में शामिल हुए है. पार्टी के निर्देशानुसार वो कांग्रेस को मजबुत करने का काम करेंगे.

राजस्थानः कांग्रेस सांसद ने बीजेपी की गौरव यात्रा को बताया 'विदाई यात्रा'
कांग्रेस सांसद रघु शर्मा ने हरीश मीणा के कांग्रेस में शामिल होने के बीजेपी पर लगाया आरोप (फोटो साभार-एएनआई)

हरीश मीणा कांग्रेस में शामिल होने के बाद कांग्रेस सांसद रघु शर्मा ने उनका पार्टी में स्वागत किया है और कहा है कि राज्य में बीजेपी का रवैया पूरी तरह तानाशाही हो चुका है. रघु शर्मा ने आरोप लगाया है कि केवल 2 लोग राज्य में बीजेपी को चला रहे हैं. रघु शर्मा ने अपने बयान में कहा है कि भाजपा के आतंकी शासन से राज्य की जनता त्रस्त है और आम लोगों के सवालों से बीजेपी में बौखलाहट भी है. कांग्रेस के सूत्रों की माने तो बीजेपी से असंतुष्ट हरीश मीणा और हबीबुर्रहमान के अलावा और भी कई नेताओं के बीजेपी में शामिल हो सकते हैं.

आपके बता दें कि बीजेपी के दौसा सांसद हरीश मीणा ने दौसा से 2014 का लोकसभा चुनाव लड़ा था और इस दौरान अपने भाई और कांग्रेस उम्मीदवार नमोनारायण मीणा को हराया था. वैसे राजस्थान की राजनीति के जानकार बताते हैं कि हरिश मीणा को पार्टी में शामिल करवाने के पीछे की रणनीति बीजेपी से राज्यसभा सांसद बनें किरोड़ीलाल मीणा के खिलाफ एक मजबुत मीणा नेता को खड़ा करना है.