राजस्थान निकाय चुनाव परिणामों से पहले BJP की बड़ी बैठक, वसुंधरा राजे भी रहीं मौजूद

भाजपा (BJP) निकाय चुनावों (Urban Body Election) के साथ पंचायतीराज चुनावों पर भी फोकस कर रही है.

राजस्थान निकाय चुनाव परिणामों से पहले BJP की बड़ी बैठक, वसुंधरा राजे भी रहीं मौजूद
वसुंधरा राजे (फाइल फोटो)

जयपुर: निकाय चुनाव (Urban Body Election) परिणाम से पहले प्रदेश की राजनीति गर्माई हुई है. प्रदेश की दोनों बड़ी पार्टियां कांग्रेस और भाजपा (BJP) निकायों में अपना अपना बोर्ड बनाने को लेकर कमर कस रही हैं. भाजपा (BJP) प्रदेश मुख्यालय में इसको लेकर बड़ी और अहम बैठक हुई.

इसमें निकाय चुनाव (Urban Body Election) परिणामों के बाद की रणनीति पर गहन मंथन हुआ. राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री वी सतीश की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया, संगठन महामंत्री चंद्रशेखर और पूर्व सीएम वसुंधरा राजे मौजूद रही. बैठक में कांग्रेस को जनहित के मुद्दों पर सड़कों पर घेरने, पंचायत चुनावों में जीत और संगठनात्मक मजबूती पर चर्चा हुई. 

बोर्ड को लेकर रूपरेखा तय
बीजेपी के प्रदेश मुख्यालय में लंबे अरसे बाद पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे संगठनात्मक बैठक में पहुंची. बैठक का मकसद निकाय चुनावों (Urban Body Election) के परिणाम के बाद अधिक से अधिक बोर्ड बनाने की रणनीति और कार्ययोजना तय करना हुआ. बैठक में मौजूद चारों बड़े पदाधिकारियों ने निकायों की सूची के आधार पर संभावित बोर्ड पर मंथन किया. इसमें उन निकायों को टॉप प्रायरिटी पर रखकर संगठन के वरिष्ठ व्यक्ति को दायित्व दिया गया हैँ, वहीं जिन निकायों में निर्दलीयों की मदद से बोर्ड बनने की संभावना है वहां भी प्रदेश इकाई के पदाधिकारियों को सक्रिय रहने को कहा गया हैँ. भाजपा (BJP) के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने बैठक के बाद कहा कि बैठक में संगठन, निकाय चुनाव (Urban Body Election), भावी आंदोलन, पंचायत चुनावों और प्रदेश ईकाई से जुड़े मसलों पर मंथन हुआ. उन्होंने दावा किया की अधिकतर निकायों पर भाजपा (BJP) हावी रहेगी.

सड़कों पर होगा आंदोलन
भाजपा (BJP) निकाय चुनावों (Urban Body Election) के साथ पंचायतीराज चुनावों पर भी फोकस कर रही है. भाजपा (BJP) प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने हालिया पंचायत गठन पर सवाल उठाते हुए कहा कि यह नीतिगत आधार नहीं हैं, पंचायत गठन में भेदभाव और राजनीति लाभ देखा गया है.

कांग्रेस सरकार की योजनाओं को लेकर भी आरोप लगाया कि भाजपा (BJP) की योजनाओं का नाम कांग्रेस बदल रही है, सिर्फ एक खानदान का नाम ही आगे करना चाहती है. उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में बड़ा आंदोलन सड़कों पर किया जाएगा, जिनमें कांग्रेस की नाकामियों को सामने लाया जाएगा.

परिणामों का इंतजार
भाजपा (BJP) की इस बैठक में निकाय चुनाव (Urban Body Election) परिणामों के बहाने कई सियासी दूरियां भी कम होती नजर आई, लंबे समय बाद सीएम वसुंधरा राजे की प्रदेश कार्यालय की बैठकों में मौजूदगी की चर्चा भाजपा (BJP) कार्यकर्ताओं में रही. आने वाले दिनों में इस सक्रियता का अच्छा परिणाम रहने के कयास भी कार्यकर्ता लगाते दिखे.