close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान के इस सांसद का रहा फ्लॉप शो, नहीं कर पाए गोद लिए गांव का विकास

सांसद रामचंद बोहरा ने आदर्श ग्राम योजना में भापुरा गांव को गोद लिया था. लेकिन पांच साल के दौरान गांव में अस्पताल का निर्माण नहीं हो सका. साथ ही शिक्षा व्यवस्था में भी कोई भी सुधार नहीं हो सका.

राजस्थान के इस सांसद का रहा फ्लॉप शो, नहीं कर पाए गोद लिए गांव का विकास
MP गांव का विकास करने के मामले में फिसड्डी साबित हुए. (फाइल फोटो)

जयपुर: 2014 के लोकसभा चुनाव में जयपुर शहर की सीट से रामचरण बोहरा देश में सबसे ज्यादा वोट हासिल करने वाले सांसद बने थे. रिकार्ड वोट से चुनावी जीत दर्ज करने वाले बोहरा के आदर्श ग्राम योजना के दौरान किया वादा कोरा साबित हो रहा है. इनके गोद लिए गांव की हाल बेहद खराब है. जी मीडिया की पड़ताल में यह खुलासा हुआ है.

सांसद रामचंद बोहरा ने आदर्श ग्राम योजना में भापुरा गांव को गोद लिया था. लेकिन पांच साल के दौरान गांव में अस्पताल का निर्माण नहीं हो सका. साथ ही शिक्षा व्यवस्था में भी कोई भी सुधार नहीं हो पाया.

विकास का किया वादा रहा कोरा 
बताते चलें, स्थानीय ग्रामीणों ने सांसद को अस्पताल के लिए जमीन भी उपलब्ध करवाई. लेकिन शिलान्यास के बाद सांसद ने एक बार भी गांव का दौरा कर इसकी सुध तक नहीं ली. ग्रामीणों का यह भी आरोप है कि गांव में अब तक पीने के पानी के जल स्त्रोत का जीर्णोद्धार नहीं हो सका है. 

सांसद ने तोड़ी आम लोगों की उम्मीदें
सासंद आदर्श ग्राम योजना के माध्यम से सांसद को गांव में अस्पताल, रोजगार, पानी, ट्रांसपोर्ट जैसी सुविधाओं को विकसित करना था. लेकिन यहां चिकित्सा, ट्रांसपोर्ट जैसी व्यवस्था भी पूरी तरह से चौपट हो चुकी है. गांव की सीनियर सैकेण्डरी स्कूल में छात्रों के बैठने के लिए उचित कमरे नहीं है. ऐसे में सांसदों की आदर्श ग्राम योजना पूरे गांव को पांच साल तक मुंह चिड़ाती हुई तस्वीर दिखाई रही है.

बोहरा की थी चौथी सबसे बड़ी जीत
आपको बता दें कि, जयपुर शहर के सांसद रामचरण बोहरा देश में सबसे ज्यादा वोट हासिल करने वाले सांसद बने थे. देश में रामचरण बोहरा की चौथी सबसे बड़ी जीत थी. रामचरण बोहरा ने वोट लेने के मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी पीछे कर दिया था. जहां पीएम मोदी को वाराणसी सीट से 5 लाख 70 हजार 128 वोट मिले थे, जबकि रामचरण बोहरा को 8 लाख 63 हजार 358 वोट हासिल हुए.