BJP ने खेला सियासी दांव, राजस्थान विधानसभा सत्र से पहले पेश करेगी अविश्वास प्रस्ताव

कटारिया ने कहा कि बीजेपी ने अविश्वास प्रस्ताव तैयार करा लिया है. 

BJP ने खेला सियासी दांव, राजस्थान विधानसभा सत्र से पहले पेश करेगी अविश्वास प्रस्ताव
कटारिया ने कहा कि बीजेपी ने अविश्वास प्रस्ताव तैयार करा लिया है.

जयपुर: राजस्थान में शुक्रवार से शुरू होने वाले विधानसभा सत्र से ठीक पहले बीजेपी ने विधानसभा में सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का ऐलान किया है. 

बीजेपी कार्यालय में हुई विधायक दल की बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि सरकार पिछले 1 महीने में होटलों में बंद रही है, ऐसे में सरकार ने जनता का भरोसा खो दिया है. 
कटारिया ने कहा कि शुक्रवार सुबह विधानसभा सचिव को अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया जाएगा. कटारिया ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस अब फटे हुए कपड़े पर टांका लगाने की कोशिश कर रही है लेकिन कपड़ा एक बार फट चुका है लिहाजा अब वह ज्यादा दिन तक नहीं टिकेगा.

यह भी पढ़ें- राजस्थान में एक हुआ गहलोत-पायलट खेमा, विक्ट्री दिखाकर दिया एकता का संदेश

नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि यह सत्र महत्वपूर्ण और निर्णायक होगा. उन्होंने कहा कि हो सकता है सरकार खुद विश्वास प्रस्ताव लाये, लेकिन बीजेपी-आरलपी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाएगी.

कटारिया ने कहा कि बीजेपी ने अविश्वास प्रस्ताव तैयार करा लिया है. इसके लिए वसुंधरा राजे समेत 40 विधायकों के दस्तखत से पहले ही प्रस्ताव तैयार कराया जा चुका है.

उधर बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा कि सरकार नैतिकता की बात करती है लेकिन 1 महीने से होटलों में विधायक बन्द पड़े हैं. पूनिया ने कहा कि जिस तरह अफ्रीका में गुलामों से बर्ताव होता था वैसा ही बर्ताव काँग्रेस के विधायकों के साथ भी हुआ. पूनिया ने कहा कि एयरपोर्ट पर सभी ने इसका नज़ारा भी देखा. पूनिया ने हैरानी जताते हुए कहा कि कोई एयरपोर्ट से भी भाग सकता है क्या?

उन्होंने कहा कि सरकार कितने दिन चलेगी इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता? पूनिया ने कहा कि हो सकता है सरकार कल सिर गिना दे, लेकिन जनता की नज़र में सरकार का प्रभाव अब गिर चुका है.

प्रतिपक्ष के उपनेता राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि आत्मा सबकी अपनी-अपनी है, लेकिन अंतरात्मा की आवाज़ किसकी कैसी है, यह कहा नहीं जा सकता. राठौड़ ने कहा कि सरकार के एक महीने से अदृश्य रहने से कलई खुल गई है. दो जगह कांग्रेस के विधायकों की बैठक हो रही है और इससे पता लगता है कि अंदर ही अंदर कुछ सुलग रहा है.