close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कांकाणी हिरण शिकार मामला: बढ़ सकती है सैफ, सोनाली, नीलम की मुश्किलें, 16 सितंबर को होगी सुनवाई

सुनवाई के दौरान अधिवक्ता केके व्यास ने अभिनेता सैफअली खान, अभिनेत्री नीलम और सोनाली बेंद्रे की ओर से वकालतनामा पेश किया.

कांकाणी हिरण शिकार मामला: बढ़ सकती है सैफ, सोनाली, नीलम की मुश्किलें, 16 सितंबर को होगी सुनवाई

भवानी भाटी, जोधपुर: कांकाणी हिरण शिकार मामले में सह-आरोपियों सीजेएम ग्रामीण कोर्ट के बरी किए जाने के आदेश के खिलाफ, सरकार की ओर से पेश की गई, लीव टू अपील पर सोमवार को राजस्थान हाई कोर्ट मुख्य पीठ जोधपुर जस्टिस मनोज कुमार गर्ग की कोर्ट में सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान मामले में सभी आरोपियों की ओर से अधिवक्ताओं ने वकालतनामा में पेश कर दिए हैं. अब इस मामले की सर्विस पूरी हो चुकी है. अब इस मामले में आगामी 16 सितंबर को सुनवाई होगी.

कांकाणी हिरण शिकार मामले में सीजेएम ग्रामीण कोर्ट द्वारा, संदेह का लाभ देते हुए सहआरोपी फिल्म अभिनेता सैफअली खान, अभिनेत्री नीलम, तब्बू, सोनाली बेंद्रे और दुष्यंत सिंह को बरी कर दिया था. जिसके बाद सरकार की ओर से हाई कोर्ट में लीव टू अपील पेश की गई. जिस पर सोमवार को हाईकोर्ट जस्टिस मनोज कुमार गर्ग की कोर्ट में सुनवाई हुई. 

सुनवाई के दौरान अधिवक्ता केके व्यास ने अभिनेता सैफअली खान, अभिनेत्री नीलम और सोनाली बेंद्रे की ओर से वकालतनामा पेश किया. अब इस मामले में सर्विस कंप्लीट हो चुकी है. इस मामले आगामी सुनवाई 16 सितंबर को मुकर्रर की गई है. गौरतलब है कि साल 1998 में फिल्म हम साथ साथ हैं की शूटिंग के दौरान, फिल्म अभिनेता सलमान खान व सह अभियुक्तो ने 12 व 13 अक्टूबर की मध्य रात्रि में, कांकाणी गांव की सरहद पर दो कृष्ण मृगों का शिकार किया था. 

जिसके बाद इस मामले में सुनवाई करते हुए सीजेएम ग्रामीण कोर्ट ने, करीब दो दशक बाद सलमान खान को 5 साल की सजा सुनाई थी. इस मामले में सह-अभियुक्तों को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया था. जिसके खिलाफ राजस्थान सरकार ने राजस्थान हाईकोर्ट में एक अपील पेश की थी जिस पर आज सुनवाई हुई. अब इस मामले में आगामी 16 सितंबर को सुनवाई होगी. इसके साथ ही कहीं न कहीं सह आरोपियों की मुसीबतें बढ़ती नजर आ रही है. अब जल्द कोर्ट में केस डायरी आने के बाद, बहस शुरू होगी और सभी सह-आरोपियों को कोर्ट में पेश होकर, जमानती मुचलके भी भरने पड़ पर सकते हैं.