कोटा: अब बॉर्डर होमगार्ड के जवान करेंगे अवैध खनन की निगरानी, नहीं होगी राजस्व की हानि

अब अवैध खनन की सूचना पर खनन अफसरों के साथ बॉर्डर होमगार्ड के जवान भी मौके पर जाएंगे और खनन कर्मचारियों को सुरक्षा प्रदान करेंगे ताकि किसी तरह की कोई झगड़े की स्थिति न बने.

कोटा: अब बॉर्डर होमगार्ड के जवान करेंगे अवैध खनन की निगरानी, नहीं होगी राजस्व की हानि
राज्य सरकार ने अब अवैध खनन पर निगरानी के लिए बॉर्डर होमगार्ड का सहारा लिया है.

केके शर्मा, कोटा: पिछले काफी समय से अवैध खनन (Illegal Mining) के बढ़ते मामलों में खनन विभाग (Mining Department) की किरकिरी और राजस्व की हानि हो रही है. इससे निपटने के लिए राज्य सरकार ने अब अवैध खनन पर निगरानी के लिए बॉर्डर होमगार्ड का सहारा लिया है.

अब अवैध खनन की सूचना पर खनन अफसरों के साथ बॉर्डर होमगार्ड के जवान भी मौके पर जाएंगे और खनन कर्मचारियों को सुरक्षा प्रदान करेंगे ताकि किसी तरह की कोई झगड़े की स्थिति न बने.

दरसअल, पूरे राजस्थान में अवैध खनन माफिया द्वारा पुलिस और खनन कर्मचारियों पर हमले, मारपीट और फायरिंग के मामले सामने आ रहे थे. कई मामलों में पुलिस के अधिकारियों पर फायरिंग तक की गई. यहां तक की खनन विभाग के कर्मचारियों पर गाड़ियां चढ़ा दी गईं, जिनमें उनकी मौत तक हो गई. इसकी वजह थी कि खनन विभाग में कर्मचारियों का टोटा रहता है. ऐसे में स्टाफ की कमी से जूझ रहे खनन विभाग के कर्मचारियों को सुरक्षा देने के लिए अब राजस्थान सरकार ने फैसला किया है, जिसके तहत अब पूरे राजस्थान में 300 बॉर्डर होमगार्ड तैनात किए गए हैं. इनमें से 30 बॉर्डर होमगार्ड कोटा संभाग में तैनात किए गए हैं.

कोटा माईनिंग इंजीनियर जगदीश मेहरावत ने बताया कि फिलहाल खनन विभाग, राजस्व विभाग, पुलिस और परिवहन विभाग के साथ मिलकर अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. कार्रवाई के दौरान हमेशा सुरक्षा का खतरा बना रहता है क्योंकि खनन विभाग में स्टाफ की कमी है. ऐसे में 30 बॉर्डर होमगार्ड कार्रवाई के दौरान हमेशा कोटा में अधिकरियों के साथ रहेंगे.