भरतपुर रेंज DIG के नाम पर रिश्वत का मामला, केंद्रीय जांच एजेंसियां दिखा रही दिलचस्पी

भरतपुर रेंज उप महानिदेशक के नाम पर रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े गए आरोपी प्रमोद शर्मा पर शिकंजा कस सकता है.

भरतपुर रेंज DIG के नाम पर रिश्वत का मामला, केंद्रीय जांच एजेंसियां दिखा रही दिलचस्पी
फाइल फोटो

जयपुर: भरतपुर रेंज उप महानिदेशक के नाम पर रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़े गए आरोपी प्रमोद शर्मा पर शिकंजा कस सकता है. एसीबी के बाद केंद्रीय जांच एंजेंसिया भी निगाहें बनाए हुए है. आय से अधिक संपत्ति के मामले में प्रवर्तन निदेशालय प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉड्रिंग एक्ट के तहत जांच का दायरा बढ़ाने की तैयारी में है. 

वहीं, आयकर विभाग की स्थानीय रेंज भी प्रमोद शर्मा की पिछली आयकर रिटर्न को जांच के दायरे में लाते हुए शिंकजा कस सकता है. एसीबी की पड़ताल में आरोपी प्रमोद शर्मा के पास आय से अधिक मामले को लेकर कई साक्ष्य मिले है. इन पर आने वाले दिनों में क्रेंद्रीय एजेंसिया दायरा बढ़ा सकती है.

ये भी पढ़ें: भारत-चीन गतिरोध पर भी बोलें PM मोदी, देश को वास्तविकता जानने का हक: अशोक गहलोत

प्रमोद शर्मा को गिरफ्तार करने के बाद एसीबी ने जयपुर के मालवीय नगर में स्थित मकान की तलाशी ली तो बंगले की चकाचौंध देखकर ब्यूरो के अधिकारी भी चकित रह गए. करोड़ों रुपये की लागत से बनाए गए शर्मा के पांच मंजिला मकान की मेंटीनेंस पर ही हर महीने हजारों रुपये खर्च होते होंगे. मकान की खासियत यह है कि यह पूरी तरह से ऑटोमेटिक सिस्टम से लैस है. मकान में दरवाजे, खिड़कियां, एसी और म्यूजिक सिस्टम सब ऑटोमेटिक हैं. अधिकारियों ने जब यहां पर सर्च किया तो सामने आया कि इसका एक फ्लोर तो केवल रेस्टोरेंट है. इसके अलावा यहां एक होम थिएटर है. यहां महंगे रिक्लाइनर और सोफे लगे हुए हैं. 

प्रमोद शर्मा के घर में जब सर्च किया गया उसमें कई अहम जानकारियां उनके हाथ लगी हैं. अब केंद्रीय एजेंसियां एसीबी की जांच पूरी होने के बाद मामले में हस्तक्षेप कर सकती है. आयकर विभाग से मिली प्रारंभिक जानकारी के अनुसार आरोपी प्रमोद शर्मा और उनकी फर्म की ओर से भरी गई आयकर रिटर्न और सामने आ रही वास्तविक आय में काफी अंतर है. ऐसे में रेंज ईकाई मामले को लेकर अनुंसधान कर सकती है. साथ ही प्रवर्तन निदेशालय भी मनी लॉड्रिंग के पुख्ता सबूत मिलने पर आरोपी और सहयोगियों पर शिकंजा कस सकता है.

ये भी पढ़ें: राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने आदेश जारी कर किया 15 समितियों का गठन