Bundi Samachar: होने वाले ससुर ने सगाई में लौटाए 11 लाख रुपये, लोग बोले- वाह क्या बात

पुत्र की सगाई के कार्यक्रम के दौरान वधु पक्ष द्वारा 11 लाख 101 रुपये और गीता जी की पुस्तक दी गई थी, जिसमें 11 लाख की राशि वापस लौटा कर दहेज प्रथा के खिलाफ एक नई आवाज उठाते हुए समाज को नया संदेश दिया है.

Bundi Samachar: होने वाले ससुर ने सगाई में लौटाए 11 लाख रुपये, लोग बोले- वाह क्या बात
प्रतीकात्मक तस्वीर.

Bundi: करवर के खजूरी पंचायत के पीपरवाला गांव (Piparwala Village) निवासी सेवानिवृत्त प्रधानाचार्य बृजमोहन मीणा (Brajmohan Meena) ने समाज में मिसाल पेश की है. 

यह भी पढ़ें- राजस्थान: युवती के शादी करने पर विवाद, कैलाश चौधरी ने गहलोत सरकार से की यह मांग..

उनके पुत्र की सगाई के कार्यक्रम के दौरान वधु पक्ष द्वारा 11 लाख 101 रुपये और गीता जी की पुस्तक दी गई थी, जिसमें 11 लाख की राशि वापस लौटा कर दहेज प्रथा के खिलाफ एक नई आवाज उठाते हुए समाज को नया संदेश दिया है.

यह भी पढ़ें- ढाई लाख में हुई शादी की दुल्हन निकली 'मुस्लिम', खुलासा हुआ तो बोली- मैं शादीशुदा हूं

 

जानकारी के अनुसार, आज पीपरवाला निवासी सेवानिवृत्त प्रधानाचार्य बृजमोहन मीणा अपने पुत्र रामधन मीणा की सगाई के कार्यक्रम में टोंक (Tonk) जिले के उनियारा तहसील (Uniyara Tehsil) में स्थित मंडावरा ग्राम पंचायत के सोलतपुरा गांव में पहुंचे थे, जहां पर दुल्हन आरती मीणा (Arti Meena) के साथ सगाई का कार्यक्रम था. 

दूल्हा पक्ष ने वापस की राशि
इस कार्यक्रम के दौरान वधू पक्ष की तरफ से समाज की परंपरा एवं रीति नीति के तहत दूल्हा पक्ष को दहेज दिया जाता है, जिसमें वधू पक्ष द्वारा वर पक्ष को 11 लाख 101 रुपये और गीता जी दी गई थी. भेंट में दी गई राशि में केवल वर पक्ष के ब्रजमोहन मीणा ने केवल 101 रुपये और गीता जी ही प्राप्त की. साथ ही 11 लाख की दी गई नगद राशि को वधू पक्ष को वापस लौटा कर समाज में व्याप्त दहेज प्रथा की कुरीति के खिलाफ नया संदेश दिया गया. 

इस दौरान मौजूद समाज के पंचों में दुल्हन पक्ष के के पिता राधेश्याम, दादा प्रभु लाल मीणा पूर्व सरपंच मण्डावरा, सेवा निर्मित प्रधानाचार्य कन्हैया लाल मीणा मानी, शिवजी राम मीणा खजूरी ने उक्त कदम की सराहना की और समाज से प्रेरणा लेने की सीख दी गई.

गीता जी से दिया धार्मिक संदेश
सगाई के कार्यक्रम में वधू पक्ष द्वारा वर पक्ष को गीता जी देकर समाज को धार्मिक भावना से जोड़ने की पहल की गई. गीता के सार के मुताबिक इससे प्रेरणा लेने की सीख दी ताकि समाज दहेज प्रथा के खिलाफ आवाज उठाएं एवं ऐसी कृति को त्याग करके शिक्षा के प्रति जागृति बढ़े.

Reporter- SANDEEP VYAS