close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'चाइल्ड फ्रेंडली पुलिस' अभियान के तहत बच्चों को दी जा रही अपराध से दूर रहने की नसीहत

अभियान के तहत पुलिस अधिकारी हर सप्ताह स्कूलों में जाकर बच्चों से संवाद करते हैं. साथ ही उनकी समस्याओ को सुनकर समाधान के प्रयास भी करते है

'चाइल्ड फ्रेंडली पुलिस' अभियान के तहत बच्चों को दी जा रही अपराध से दूर रहने की नसीहत
डूंगरपुर पुलिस का यह अभियान प्रेरणादायक है

अखिलेश शर्माय/डूंगरपुर: डूंगरपुर जिले में यूनिसेफ और एसपी शंकरदत्त शर्मा के निर्देशन में 'चाइल्ड फ्रेंडली पुलिस' अभियान चलाया जा रहा है. इस अभियान के तहत पुलिस स्कुलो में जाकर बच्चों को बाल अधिकारों और कानून की जानकारी देते हुए अपराधों से दूर रहने की नसीहत देती है. कोतवाली थानाधिकारी चांदमल सिंगारिया ने पहल करते हुए बच्चों की नजर में पुलिस को वास्तव में 'चाइल्ड फ्रेंडली पुलिस' बना दिया.

अभियान के तहत पुलिस अधिकारी हर सप्ताह स्कूलों में जाकर बच्चों से संवाद करते हैं. साथ ही उनकी समस्याओं को सुनकर समाधान के प्रयास भी करते है. एसपी के निर्देश पर जिले के सभी 13 थानों की पुलिस अपने-अपने क्षेत्र की स्कुलो में जाकर बच्चों को ट्राफिक और बाल कानूनों की जानकारी देते हुए अपराध से दूर रहने और पढ़ाई पर ध्यान देने की नसीहत देते है. इतना ही नहीं पुलिस की कार्यप्रणाली से बच्चों को अवगत कराने के लिए उन्हें थानों का भ्रमण भी करवाती है. 

अभियान के तहत थानाधिकारी चांदमल सिंगारिया पिछले हफ्ते बोरी गांव के सरकारी स्कूल में बच्चों से संवाद करने गए. जंहा सातवीं कक्षा की छात्रा जया गमेती ने सीआई के सामने ऐसी समस्या रख दी जो उनके विभाग से जुडी नहीं थीं छात्रा जया ने पुलिस अंकल से कहा कि उसके घर पर बिजली कनेक्शन नहीं होने से वो रात में पढाई नहीं कर पाती है. वही बिजली कनेक्शन करवाने के लिए उसके परिवार के पास पैसे भी नहीं है.

समस्या सुनने के बाद सीआई चांदमल थाने पर पहुचें और बिजली विभाग के अधिकारियों से बात की और अपने खर्चे से जया के घर बिजली कनेक्शन करवाया. इतना ही नहीं सीआई चांदमल में बिजली का बिल और जया की पढाई का खर्चा उठाने के साथ उसकी शादी तक मदद करने की बात कही.

इधर पुलिस अंकल की दरियादिली से जया और उसका परिवार खुश है. पहले चिमनी में पढ़ाई करने वाली जया के घर अब बिजली का कनेक्शन लग चूका है, जिससे वह आराम से रात में पढ़ाई कर सकती है. 'चाइल्ड फ्रेंडली पुलिस' अभियान के जरिये डूंगरपुर पुलिस नई पीढ़ी को अपराध से दूर रहकर अच्छा नागरिक बनाने में अहम भूमिका निभा रही है. अभियान के साथ चांदमल जैसे पुलिस अधिकारी गरीब बच्चों को आगे बढ़ने में उनकी राह भी आसन कर रहे है. वाकई डूंगरपुर पुलिस का यह अभियान प्रेरणादायक है.