कनाडा के वाणिज्य मंत्री एंड्रयू स्मिथ जयपुर दौरे पर, औद्योगिक संगठनों के साथ की गई निवेश को लेकर बैठकें

 इंडो-कैनेडियन बिजनेस चैंबर की ओर से जयपुर में उद्यमियों से संवाद किया गया.

कनाडा के वाणिज्य मंत्री एंड्रयू स्मिथ जयपुर दौरे पर, औद्योगिक संगठनों के साथ की गई निवेश को लेकर बैठकें
इंडो-कैनेडियन बिजनेस चैंबर की ओर से जयपुर में उद्यमियों से संवाद

जयपुर: इंडो-कैनेडियन बिजनेस चैंबर की ओर से जयपुर में उद्यमियों से संवाद किया गया. मकसद रहा कनाडा में नए निवेश संभावनाओं को साझा करना. ब्रांड कनाडा जयपुर के स्टार्ट-अप इकोसिस्टम और पारंपरिक उद्योगों के साथ एमओयू पर फोकस रहा. संवाद सत्र में कनाडा के वाणिज्यिक मंत्री एंड्रयू स्मिथ और इंडो-कैनेडियन बिजनेस चैंबर की सीईओ नादिरा हामिद मौजूद रही. कनाडा प्रदेश में ज्वैलरी, पर्यटन, स्टार्ट-अप, टैक्सटाइल, हैंडीक्राफ्ट, खाद्य, सूचना प्रौद्योगिकी सहित विभिन्न सेक्टर में संभावनाओं पर काम कर रहा हैं.

ब्रांड कनाडा को प्रमोट करने कनाडा के वाणिज्य मंत्री एंड्रयू स्मिथ जयपुर पहुंचे. इंडो-कैनेडियन बिजनेस चैंबर, एयर कनाडा और कनाडा उच्चायोग के ट्रेड कमिश्नर के सहयोग से बुधवार को शहर के व्यापार और औद्योगिक संगठनों के साथ बैठक रही. बैठक में संभावित सहयोग और निवेश के विभिन्न क्षेत्रों में कनाडा के साथ व्यापार पर मंथन हुआ. 

कार्यक्रम में स्मिथ ने कहा कि कनाडा मानता है कि 5 ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनने की दिशा में भारत का व्यापार, जयपुर जैसे महत्वपूर्ण शहरों के कंधों पर टिकी हुई है, जिसमें व्यापार, स्टार्टअप और विनिर्माण उद्योगों की अपार संभावनाएं हैं. जयपुर को देश के अगले सबसे बड़े स्टार्ट-अप बेस के रूप में मान्यता प्राप्त है और हम लंबे समय से इसका विश्लेषण कर रहे हैं.

इंडो-कैनेडियन बिजनेस चैंबर सीईओ नादिरा हमीद ने कहा कि जीडीपी वृद्धि के मामले में जयपुर सभी भारतीय शहरों में 7 वें स्थान पर है और सीमेंट का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है और भारत में उत्पादित नमक के दस प्रतिशत हिस्से का योगदान देता है. इससे हमें यह पता चलता है कि जयपुर भारतीय अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है और इस शहर के साथ एक मजबूत व्यापारिक संबंध कनाडा और भारत दोनों को निश्चित रूप से लाभान्वित करेगा. खासकर ज्वैलरी और पर्यटन सेक्टर में भी नए निवेश को बल मिलेगा.

राजस्थान भी नई नीतियों के साथ विदेशी निवेश आकर्षित कर रहा है. कनाडा के उद्यमियों को भी नई नीतियों की जानकारी दी जाए, जो प्रदेश में भी नए निवेश की संभावनाएं बढ़ेगी.