धौलपुर जिले की आंगई पुलिस चौकी का मामला, बसेड़ी विधायक ने सीएम को लिखा पत्र

धौलपुर जिले की बसेड़ी तहसील की आंगई पुलिस चौकी को थाना बनाने की मांग की जा रही है. स्थानीय विधायक खिलाड़ीलाल बैरवा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखा है.

धौलपुर जिले की आंगई पुलिस चौकी का मामला, बसेड़ी विधायक ने सीएम को लिखा पत्र
फाइल फोटो

विष्णु शर्मा, जयपुर: धौलपुर जिले की बसेड़ी तहसील की आंगई पुलिस चौकी को थाना बनाने की मांग की जा रही है. स्थानीय विधायक खिलाड़ीलाल बैरवा ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखा है. विधायक ने क्षेत्र को डाकुओं से प्रभावित बताते हुए चौकी की जरूरत बताई है. बसेड़ी विधायक खिलाड़ीलाल बैरवा ने 31 जुलाई को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखा. पत्र में विधायक बैरवा ने लिखा कि उनका विधानसभा क्षेत्र डांग इलाके में आता है. क्षेत्र के आंगई गांव की पुलिस चौकी को थाने में क्रमोन्नत किया जाए.

ये भी पढ़ें: चौमूं में 'लड़की' बनी लड़की की दुश्मन, फोटो को गंदा एडिट कर मांगी 1 करोड़ की फिरौती

विधायक ने बताया कि आंगई पुलिस चौकी 1948 से स्थापित हैं. स्थापना ने 70 साल बाद भी पुलिस चौकी को थाने में क्रमोन्नत नहीं  किया गया है. आंगई क्षेत्र की 15 किमी परिधि में कोई पुलिस थाना नहीं है. इतना ही नहीं यह क्षेत्र मध्यप्रदेश की सीमा से लगे चम्बल के बीहड़ से युक्त, ऊबड़-खाबड़, पठारी दस्यु प्रभावित डांग इलाका है. आंगई क्षेत्र से होकर राष्ट्रीय राजमार्ग-11बी गुजरता है. चौकी होने से हाईवे पेट्रोलिंग भी ठीक नहीं हो पाती है. थाना बनने से राजमार्ग  पर हाईवे पेट्रोलिंग ठीक से होगी.

विधायक ने कहा कि आम जनता को लाभ मिल सके इसके लिए पुलिस चौकी आंगई को पुलिस थाने में क्रमोन्नत किया जाना बहूत जरूरी है. विधायक के पत्र के जवाब में 20 अगस्त को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ओर से जवाबी पत्र लिखा गया. इसमें यथोचित कार्रवाई के लिए कार्रवाई के लिए एसीएस गृह को प्रकरण भेजा है. फिलहाल मामला गृह विभाग में विचाराधीन है.

पुलिस चौकी के निर्माण की मांग --
दूसरी ओर बूंदी के केशवराय पाटन विधायक चंद्रकांता मेघवाल ने पुलिस चौकी के निर्माण के लिए अशोक गहलोत को पत्र लिखा है. मेघवाल ने 7 अगस्त को सीएम को पत्र लिखकर रामगंजमंडी के अलोद गांव की पुलिस चौकी के नए भवन निर्माण की मांग की है. कई वर्षों से चौकी जर्जर हो चुकी है और यहां कभी भी हादसा हो सकता है. सीएम की ओर से जवाबी पत्र में मामला कार्रवाई के लिए एसीएस गृह को भेजने के लिए कहा है.

ये भी पढ़ें: मिसाल बने चूरू के थानेदार महेंद्रदत्त, लॉकडाउन में बने 40 गरीब परिवारों के मसीहा