close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ओपी रावत ने की जयपुर में मीडिया से बातचीत, चुनाव के तैयारी की दी जानकारी

प्रेसवार्ता के दौरान मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने बताया कि विधानसभा चुनाव के पहले किसी भी राजनीतिक दल ने बैलेट पेपर का मुद्दा नहीं उठाया है.

ओपी रावत ने की जयपुर में मीडिया से बातचीत, चुनाव के तैयारी की दी जानकारी
जयपुर में प्रेसवार्ता में मुख्य चुनाव आयुक्त ओ.पी रावत व अन्य अधिकारी (फोटो साभार-twitter@anishsingh21)

जयपुर: चुनावी राज्य राजस्थान में चुनाव से पहले तैयारियों का जायजा लेने जयपुर पहुंचे मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने शनिवार को राज्य के मुख्य सचिव डीबी गुप्ता और डीजीपी ओपी गल्होत्रा के साथ बैठक की. इस दौरान 7 दिसंबर को राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर राज्य के शीर्ष प्रशासनिक पदाधिकारियों से मुख्य चुनाव आयुक्त ने चर्चा भी की. 

इस बैठक के बाद जयपुर के एसएमएस कंवेंशन सेंटर में प्रेसवार्ता के दौरान मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने विधानसभा चुनाव की तैयारियों से संबंधित सवालों का जवाब भी दिया. मुख्य चुनाव आयुक्त रावत ने बताया कि विधानसभा चुनाव के पहले किसी भी राजनीतिक दल ने बैलेट पेपर का मुद्दा नहीं उठाया है. सभी राजनीतिक दलों ने बैलेट मशीन के साथ वीवीपेट के उपयोग के चुनाव आयोग के निर्णय का भी स्वागत किया है. रावत का कहना है कि विधानसभा चुनाव के पहले राज्य के संवेदनशील मतदान केंद्रों पर चुनाव आयोग की विशेष नजर रहेगी. उन्होने यह भी बताया कि इस विधानसभा चुनाव में राजस्थान के 2.85 प्रतिशत युवा पहली बार मतदान में हिस्सा लेंगे.


जयपुर में प्रेस-कांफ्रेेेंस के दौरान मुख्य चुनाव आयुक्त के साथ अन्य अधिकारी (फोटो साभार:twitter@anishsingh21)

निष्पक्ष और पारदर्शी चुनाव कराने के सवाल पर CEC रावत ने कहा कि चुनाव आयोग ने सभी सरकारी मशीनरी को निर्देश दे रखे हैं और भयमुक्त होकर निष्पक्ष तरीके से विधानसभा चुनाव को कराने का काम सरकारी अधिकारी करेंगे. इसके अलावा रावत ने चुनाव आयोग को मीडिया का मित्र बताते हुए निर्वाचन अधिकारियों को भी मीडिया की मदद करने और सहयोग लेने का निर्देश भी दिया. 

उन्होनें यह भी बताया कि प्रदेश में पहली बार आचार संहिता के पालन के लिए स्क्रीनिंग कमिटी बनाई गई है. जो आम लोगों और राजनीतिक दलों के भेजे जाने वाली शिकायतों को देखेगी. साथ ही रावत ने यह भी बताया कि स्क्रीनिंग कमेटी के बनने के बाद कुल मिले 452 शिकायतों में से 200 मामले कमेटी ने सुलझा लिए हैं. वहीं पहली बार  इस चुनाव के दौरान चुनाव आयोग ने सुगमता पर्यवेक्षक भी बनाए हैं. इसके अलावा प्रत्येक विधानसभा में एक बूथ महिला फ्रेंडली भी रहेगा.

आपको बता दे कि, राज्य में कुल 36172 मतदान स्थलों हैं. जहां 51963 मतदान केंद्र बनाए गए है. इस चुनाव में संवेदनशील मतदान केंद्रों पर वेब कास्टिंग भी होगी. मुख्य चुनाव आयुक्त ओपी रावत पिछले दो दिनों से प्रदेश में चुनाव कार्य की समीक्षा करने के बाद मीडिया से बातचीत कर रहे थे.