प्रवासियों के लिए अच्छी नीति बनाने में नाकाम रही केंद्र सरकार: सचिन पायलट

सचिन पायलट ने कहा, 'केंद्र सरकार कोविड-19 संकट के दौरान प्रवासियों की मदद करने के लिए, एक स्पष्ट नीति नहीं बना सकी. हजारों की संख्या में ये प्रवासी सड़कों पर भूखे घूम रहे हैं.

प्रवासियों के लिए अच्छी नीति बनाने में नाकाम रही केंद्र सरकार: सचिन पायलट
सचिन पायलट ने केंद्र पर अच्छी नीति बनाने में नाकाम रहने का आरोप लगाया.

जयपुर: राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) ने शुक्रवार को केंद्र सरकार पर कोविड-19 (COVID-19) महामारी के दौरान प्रवासियों की परेशानी दूर करने के लिए, एक अच्छी नीति बनाने में नाकाम रहने का आरोप लगाया.

सचिन पायलट ने कहा, 'केंद्र सरकार कोविड-19 संकट के दौरान प्रवासियों की मदद करने के लिए, एक स्पष्ट नीति नहीं बना सकी. हजारों की संख्या में ये प्रवासी सड़कों पर भूखे घूम रहे हैं और ऐसी स्थितियों में, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने लगभग 1,000 बसों की व्यवस्था करके, उनके प्रति संवेदनशीलता दिखाई. उत्तर प्रदेश सरकार ने इन बसों के सुचारु संचालन में अड़चनें पैदा कीं. हमारी बसों को राज्य में प्रवेश करने की अनुमति नहीं मिली.'

उन्होंने कहा कि, शुरू में उत्तर प्रदेश सरकार ने बसों को लखनऊ भेजने के लिए कहा, फिर बसों को सीमा पर भेजने के लिए कहा और फिर उन्होंने फिटनेस का मुद्दा उठाया. राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने भी यूपी की योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) सरकार पर हमला किया और कहा कि आदित्यनाथ ने ट्वीट किया था कि अगर प्रियंका गांधी बसें भेजती हैं तो वे, बसों को प्रवेश की अनुमति देंगे, 'हालांकि, बाद में 1,032 बसों को सीमा पर रोक दिया गया.'

खाचरियावास ने कहा कि, भेजी गई बसें राजस्थान राज्य परिवहन की बसें नहीं थीं, कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने करौली, अलवर और सहित राज्य के विभिन्न जिलों से इन बसों को किराए पर लिया था. पायलट और खाचरियावास कांग्रेस नेताओं जुबेर खान और धीरज गुर्जर के साथ मीडिया को संबोधित कर रहे थे.

(इनपुट-आईएएनएस)