मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जैसलमेर से पहुंचे जयपुर, बीजेपी पर साधा निशाना

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज जैसलमेर से जयपुर पहुंचे और जयपुर पहुंचने के साथ ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जैसलमेर से पहुंचे जयपुर, बीजेपी पर साधा निशाना
गहलोत ने कहा कि प्रदेश की जनता इस पूरे खेल को देख रही है.

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आज जैसलमेर से जयपुर पहुंचे और जयपुर पहुंचने के साथ ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा. मुख्यमंत्री ने कहा कि रक्षाबंधन पर दुख इस बात का है कि मानवीय विधायकों को घर जाने से वंचित होना पड़ा. यह परिस्थितियां क्यूं बनी सब जानते हैं. हम सब की प्राथमिकता है कि देश में लोकतंत्र मजबूत बने डेमोक्रेसी बचाने के लिए यह सब कुछ किया जा रहा है. 

ये भी पढ़ें: ग्रह-नक्षत्रों नहीं, इस रक्षाबंधन चलेगी बहनों की मर्जी, सालों बाद आया है शुभ संयोग

गहलोत ने कहा कि प्रदेश की जनता इस पूरे खेल को देख रही है, जिस रूप में सरकार को विचलित करने का प्रयास किया गया है. यह तीसरा प्रयास था दो प्रयास पहले हो चुके हैं और कर्नाटक में मध्यप्रदेश का सबको पता है,लेकिन राजस्थान में इसकी तैयारी बड़े स्तर की थी, लेकिन उनको शर्म नहीं आती है कि उनके पास 73 विधायक हैं और हमारे पास 122 विधायक, लेकिन धन और बल के दम पर वो आज भी लगातार कर रहे हैं.

गहलोत ने कहा कि केन्द्र में जो बैठे हैं मैं उनके नाम पहले ले चुका हूं, लेकिन अंत में सच्चाई की ही जीत होगी. राजस्थान में जिस प्रकार से केन्द्रीय मंत्री षड़यंत्र में शामिल हैं. वो जिस प्रकार से खेल खेल रहे हैं उनको थोड़ा धैर्य रखना चाहिए था. वह तो मैदान में ही कूद पड़े. राजस्थान की परम्पराओं और राजनेताओं के मिजाज को भूल गए. नये नये एमपी बने फिर जल्द ही केन्द्र में मंद्री बनने का मौका मिला. इसलिए उनको जल्दबाजी हो गई,,जो खुद फंसे पड़े हैं वो दूसरों पर छापे पटकवारे हैं. लोग इस समय बहुत डरे हुए हैं. फोन पर बात करने से भी डरते हैं. ऐसे में लोग कब तक बर्दाश्त करेंगे. लोग सड़कों पर आ जाएंगे. इनको समझना पड़ेगा कि खेल को बंद करना पड़ेगा. चुनी हुई सरकार को चलने दो. केंद्र को पूरा सहयोग करने दो. अगर कोविड-19 में किसी ने सबसे अच्छी लड़ाई लड़ी है तो राजस्थान है और प्रधानमंत्री ने इसकी प्रशंसा की है.

गहलोत ने कहा कि जीवन और आजीविका बचाने का काम राजस्थान सरकार ने किया है और यह सब के सहयोग से किया है. अभी तक कोरोना रुका नहीं है. फैल रहा है, लेकिन उसके बावजूद भी आप यह हथकंडे अपना हो उसको जनता कैसे माफ कर सकती है. जो बागी हुए हैं उन पर कुछ नहीं कह सकता वो किसके सम्पर्क में है वो जाने, लेकिन जो आला कमान फैसला लेता है हम सिपाही को वो मंजूर होता है. कोरोना पर प्रधानमंत्री के वीडियो कांफ्रेंस के सवाल पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा की एक दिन में महज 8-10 मुख्यमंत्रियों को ही बोलने का मौका मिलता है. ऐसे में अगर दो दिन की वीडियो कांफ्रेंस होगी तो सभी को बोलने का मौका मिलेगा. इसके साथ ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा की जो विधायक बागी हुए हैं उनको कोई शिकायत नहीं थी,,लेकिन अब शिकायत हो गई है. प्रदेश में कॉलेजों की सौगात मिली है और मिलनी भी चाहिए. विधायकों के क्षेत्रों के कोई काम नहीं रुकने चाहिए. जनता जब हमको देखती है तो वीक्ट्री का साइन बनाती है. जनता सब जानती है वो कभी बीजेपी को माफ नहीं करेगी.

ये भी पढ़ें: कोविड संकट के बीच CM गहलोत ने PM मोदी को लिखा पत्र, की ये मांग...