Bharatpur: Delhi Police और ग्रामीणों में झड़प, Firing में एक की मौत

राजस्थान-हरियाणा बार्डर पर भरतपुर (Bharatpur News) के जुरहेरा थाने के गांव खेड़ली नानू में गुरुवार देर शाम को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की टीम ने एक बदमश को पकड़ने के लिए दबिश दी. 

Bharatpur: Delhi Police और ग्रामीणों में झड़प, Firing में एक की मौत
पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में रखवाया है.

भरतपुर: राजस्थान-हरियाणा बार्डर पर भरतपुर (Bharatpur News) के जुरहेरा थाने के गांव खेड़ली नानू में गुरुवार देर शाम को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की टीम ने एक बदमश को पकड़ने के लिए दबिश दी. दबिश के दौरान दिल्ली पुलिस की टीम व ग्रामीणों में झड़प (Clash) हो गई. बचाव में दिल्ली पुलिस की टीम ने फायरिंग की, फायरिंग से गांव के ही एक सद्दा पुत्र फकरु मेव की पेट में गोली लगने से मौत हो गई.

सूचना पर पहुंची जुरहेरा थाना पुलिस (Bharatpur Police) ने घायल को जिला अस्पताल पहुंचाया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में रखवाया है. वहीं, मामले में मृतक के परिजनों सहित ग्रामीणों का आरोप है कि मृतक अपने घर से गांव की दुकान पर सब्जी लेने गया था जहां पुलिस व ग्रामीण की झड़प हो रही थी. वहां पर दिल्ली पुलिस की टीम ने उसे गोली मार दी और पुलिस टीम मौके से भाग गई. घटना को लेकर ग्रामीणों में खासा रोष व्याप्त है.

दरअसल दिल्ली के दिल्ली साउथ जिले की पुलिस टीम खेड़ली नानू गांव के एक वांछित अपराधी को पकड़ने के लिए एक स्कारिपयो व एक कार से खेड़ली नानू गांव आई थी. इसकी सूचना दिल्ली पुलिस ने भरतपुर की जुरहेरा थाना पुलिस को नहीं दी और अकेले ही गांव में दबिश देने चली गई. दबिश के दौरान ग्रामीण व पुलिस आमने-सामने हो गए और एक युवक की पुलिस की गोली लगने से मौत हो गई है. स्थानीय पुलिस को घटना का देर शाम पता चला जब तक दिल्ली पुलिस की टीम वापिस लौट गई. अब भरतपुर पुलिस के आला अफसर घटना के सम्बंध में दिल्ली पुलिस के आला अफसरों से बात कर रहे है कि दबिश देने वाली टीम में कौन-कौन लोग थे और क्यों उन्होंने लोकल पुलिस को इस दबिश की जानकारी नहीं दी.

यह भी पढ़ें - Rajasthan में Congress Government के 2 साल, CM Gehlot ने ऐसे जताया 'आभार'