राज्यों के Vaccine के मिस-मैनेजमेंट मुद्दे पर CM Ashok Gehlot ने दिया 'करारा जवाब'

सीएम ने कहा कि राजस्थान (Rajasthan) में पूरे देश में सर्वाधिक वैक्सीनेशन हुआ है. केन्द्र सरकार द्वारा ये मानने में कोई बुराई नहीं थी कि देश में वैक्सीन की उपलब्धता कम है एवं राज्य सरकारों को उसी के अनुसार वैक्सीनेशन का कार्यक्रम बनाना चाहिए.

राज्यों के Vaccine के मिस-मैनेजमेंट मुद्दे पर CM Ashok Gehlot ने दिया 'करारा जवाब'
सीएम बोले- स्वास्थ्य मंत्री द्वारा राज्यों पर मिस मैनेजमेंट का आरोप लगाना एक दम गलत है.

Jaipur: वैक्सीन (Vaccine) के मुद्दे पर राज्यों पर मिस-मैनेजमेंट के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री (Union Health Minister) के आरोपों पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने करारा जवाब दिया है.

यह भी पढ़ें- Rajasthan में Corona के रिकॉर्ड मामले, 44,905 Active Case, 29 की मौत

राजस्थान सरकार (Government of Rajasthan) ने केन्द्र सरकार की गाइडलाइंस का पालन करते हुए मेहनत कर प्रतिदिन वैक्सीनेशन (Vaccination) की रफ्तार 5.81 लाख टीके प्रतिदिन तक पहुंचाई एवं देश में प्रथम स्थान पर पहुंचा. मैं केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जी से यह उम्मीद नहीं करता था कि वो 'राज्यों में पर्याप्त वैक्सीन उपलब्ध होने' जैसा असत्य बयान देंगे. स्वास्थ्य मंत्री द्वारा राज्यों पर मिस मैनेजमेंट का आरोप लगाना एक दम गलत है.

यह भी पढ़ें- Rajasthan Covid-19: शराब की दुकानों का भी बदला समय, जानिए कितने बजे बंद होंगे ठेके

शुरुआत में मेडिकल फर्टिनिटी तक भी वैक्सीन लगवाने को लेकर आशंकित थी लेकिन हमने सभी के अंदर कॉन्फिडेंस पैदा कर आमजन को वैक्सीनेशन के लिए प्रोत्साहित किया और लोग बड़ी संख्या में आगे आए हैं. केन्द्र सरकार ने 10% वैक्सीन के खराब होने की छूट दी थी लेकिन राजस्थान में वैक्सीन के वेस्टेज का प्रतिशत सिर्फ 7% है.  

राजस्थान में हुआ पूरे देश में सर्वाधिक वैक्सीनेशन 
राजस्थान (Rajasthan) में पूरे देश में सर्वाधिक वैक्सीनेशन हुआ है. केन्द्र सरकार द्वारा ये मानने में कोई बुराई नहीं थी कि देश में वैक्सीन की उपलब्धता कम है एवं राज्य सरकारों को उसी के अनुसार वैक्सीनेशन का कार्यक्रम बनाना चाहिए.

गहलोत ने ये भी कहा कि केन्द्र सरकार राजस्थान, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, ओडिशा, आंध्र प्रदेश, पंजाब, दिल्ली, झारखंड, उत्तराखंड और असम में वैक्सीन की नियमित आपूर्ति करने में विफल रही है, जिसके कारण इन राज्यों में कई जगह वैक्सीनेशन सेंटर बंद करने पड़े हैं. मैं उम्मीद करता हूं कि केन्द्रीय मंत्री कोरोना संक्रमण और वैक्सीनेशन पर गलतबयानी करने की बजाय आमजन के हित में सत्य सामने रखकर काम करेंगे.

और क्या बोले सीएम गहलोत
मेरा यह भी मानना है कि केन्द्र सरकार को इस बारे में गलतबयानी करने की जगह आधिकारिक तौर पर एडवायजरी जारी कर कहना चाहिए था कि वैक्सीन उपलब्ध होने में थोड़ा समय लगेगा, जिससे भविष्य में लोगों में कन्फ्यूजन की स्थिति न बने और लोगों का वैक्सीन में विश्वास बना रहे.