CM गहलोत ने केंद्र की आर्थिक नीतियों पर उठाए सवाल, बोले- मीडिया को दबाव में रखा है

बैठक में सीएम गहलोत (Ashok Gehlot) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने वादे को याद दिलाते हुए कहा कि 2014 लोकसभा चुनाव से पहले जो वादे किए थे, उन पर आखिर क्यों नहीं जवाब देते हैं? 

CM गहलोत ने केंद्र की आर्थिक नीतियों पर उठाए सवाल, बोले- मीडिया को दबाव में रखा है
गहलोत ने आर्थिक मंदी पर कहा कि देश में आर्थिक हालात खराब हैं.

जयपुर: चुनावों से कांग्रेस (Congress) को खोए हुए जनाधार को वापस पाने की उम्मीद जगी है. लिहाजा कांग्रेस (Congress) नेताओं ने तय किया है कि देश भर में बड़ा आंदोलन करके विपक्षी दल के रूप में भूमिका निभाकर केंद्र की आर्थिक नीतियों के बहाने बड़ा आंदोलन खड़ा किया जाएगा. गहलोत (Ashok Gehlot) ने एक बार फिर दोहराया कि देश का मीडिया केंद्र सरकार के दबाव में है.

इसी रणनीति पर चर्चा के लिए शनिवार को कांग्रेस (Congress) वॉर रूम में कांग्रेस (Congress) दिग्गजों की बैठक बुलाई गई. बैठक में पार्टी के सभी महासचिव, सचिव, पीसीसी चीफ, सीएलपी लीडर्स सहित फ्रंटल ऑर्गनाइजेशन के पदाधिकारी मौजूद रहे. बैठक में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सहित प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे, प्रदेश सचिव विवेक बंसल मौजूद रहे. 

बैठक में सीएम गहलोत (Ashok Gehlot) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने वादे को याद दिलाते हुए कहा कि 2014 लोकसभा चुनाव से पहले जो वादे किए थे, उन पर आखिर क्यों नहीं जवाब देते हैं? क्या देश में काला धन वापस आ गया? सीएम ने प्रधानमंत्री मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि आवश्यक नहीं है कि हर वायदे पूरे हों क्योंकि कई तरह की मजबूरियां होती हैं. इसलिए मोदी जी वादे पूरे नहीं कर पा रहे हैं तो कम से कम स्वीकार तो कर लें.

गहलोत (Ashok Gehlot) ने आर्थिक मंदी पर कहा कि देश में आर्थिक हालात खराब है. यह बात भारत के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी स्वीकार कर ली है. ऐसे में केंद्र सरकार को चाहिए कि ऐसे हालात में पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव और डॉ. मनमोहन सिंह के समय की नीतियों को लागू करें.

हम चुप रहे तो जनता माफ नहीं करेगी
सीएम गहलोत (Ashok Gehlot) ने देश की जनता से अपील की कि आज देश जिन हालातों से गुजर रहा है. अगर हम चुप रहे तो इतिहास कभी माफ नहीं करेगा. इसलिए कांग्रेस (Congress) के कार्यकर्ता अपना फर्ज निभाने के लिए केंद्र सरकार की गलत नीतियों के खिलाफ सोनिया गांधी के नेतृत्व में ब्लॉक, जिला, प्रदेश और उसके बाद राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन करेगी. 

राफेल मामले में गहलोत (Ashok Gehlot) ने राहुल का बचाव किया
सीएम गहलोत (Ashok Gehlot) ने बड़ी विन्रमता से कहाकि कि हम राफेल विमान सौदे पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं, लेकिन सुप्रीम कोर्ट चाहता तो सौदे की प्रक्रिया के जांच के आदेश भी दे सकता था. यह जांच सीबीआई एसआईटी या जेपीसी के द्वारा करवाई जा सकती थी लेकिन कोर्ट ने जांच के आदेश नहीं दिए. कांग्रेस (Congress) का हमेशा न्यायपालिका पर भरोसा है. हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं. 

गहलोत (Ashok Gehlot) ने एक बार फिर दोहराया कि देश का मीडिया केंद्र सरकार के दबाव में है, इसलिए सरकार विरोधी खबरों को नहीं दिखाते. गहलोत (Ashok Gehlot) ने यह भी कहा कि मुझे नहीं पता कि जिन चैनलों के माइक यहां रखे हुए हैं, उन पर मेरा बयान प्रसारित होगा या नहीं. उन्होंने कहा कि मैं पत्रकारों की मजबूरी को समझता हूं. केंद्र सरकार मीडिया घरानों के मालिकों पर ईडी अथवा इनकम टैक्स की कार्रवाई करवा रही है. इसलिए मीडिया दबाव में है.