सदन में CM गहलोत का बजट पर जवाब, कहा- BJP की नौटंकी देख रहा पूरा देश

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को बजट को लेकर सदन में रिप्लाई दिया.

सदन में CM गहलोत का बजट पर जवाब, कहा- BJP की नौटंकी देख रहा पूरा देश
अशोक गहलोत ने कहा सदन में कई नेताओं ने बजरी खनन को लेकर सवाल उठाए हैं.

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को बजट को लेकर सदन में रिप्लाई दिया. 1 घंटे के संबोधन के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर वसुंधरा राजे और गुलाबचंद कटारिया से लेकर राजेंद्र राठौड़ पर निशाना साधा. अशोक गहलोत ने कहा कि उनके बजट को लेकर भले ही भाजपा नेता आंकड़ों को गिनाने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन पहली बार ऐसा हुआ है जब प्रदेश की जनता ने बजट का खुल कर स्वागत किया है. 

उन्होंने कहा कि जनता ने माना है कि आर्थिक संकट के बावजूद कांग्रेस सरकार ने शानदार बजट पेश किया है. मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि देश नहीं मिटने दूंगा देश नहीं झुकने दूंगा जैसी बातें करने वाले आज देश की कंपनियों को बेच रहे हैं. अशोक गहलोत ने नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया पर निशाना साधते हुए कहा की राजस्थान के शांति मार्च पर निशाना साधने वाले दिल्ली और यूपी हिंसा की बात नहीं करते हैं. राजस्थान की जनता ने पूरे देश को शांति मार्च के जरिए एक संदेश दिया था. 

अशोक गहलोत ने कहा सदन में कई नेताओं ने बजरी खनन को लेकर सवाल उठाए हैं. गहलोत ने माना कि पिछले 1 साल में वह अगर किसी चीज से सबसे ज्यादा दुखी है तो वह बजरी खनन है, लेकिन भाजपा सरकार में क्यों बजरी का खनन बंद हुआ इस बात का भी जवाब देना चाहिए. क्यों अवैध बजरी खनन के जरिए 5000 करोड़ रुपए की कमाई प्रतिमाह सत्ता तक भिजवाई जाती रही इसका सवाल भी जनता जानना चाहती है. 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने संबोधन के दौरान विवेकानंद के शिकागो में दिए बयान से लेकर रविंद्र नाथ टैगोर की गीतांजलि कविता के जरिए भाजपा से सवाल किया कि आजकल महात्मा गांधी को मानने की नौटंकी की जा रही है, लेकिन यह कैसे संभव हो सकता है कि गांधी और गोडसे को एक ही तराजू में रखा जाए. साध्वी प्रज्ञा गोडसे का मंदिर बनाने की बात कहती है, लेकिन भाजपा के शीर्ष नेता इसे लेकर चुप रहते हैं. पूरा देश भाजपा की नौटंकी देख रहा है. 

अशोक गहलोत ने कहा भाजपा ने राजस्थान में अपराधिक आंकड़ों के बढ़ने का मुद्दा उठाया, लेकिन हमें आंकड़ों की चिंता नहीं है. हमने प्रदेश में FIR की अनिवार्यता कर दी है. भले ही एनसीआरबी राजस्थान में बढ़े हुए आंकड़ों को दिखाएं, लेकिन हम जनता को न्याय और इंसाफ देना चाहते हैं. 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने संबोधन के दौरान केंद्र सरकार की हर घर जल योजना में राजस्थान की हिस्सेदारी 10 फ़ीसदी करने की मांग की. वहीं, गहलोत में भामाशाह कार्ड योजना में करप्शन का मुद्दा एक बार फिर से उठाते हुए कहा हमने राजस्थान में भामाशाह और आयुष्मान योजना को मर्ज कर दिया है. इसका लाभ प्रदेश की जनता को मिल रहा है. 

अशोक गहलोत ने अपने संबोधन में किसानों को 5 साल तक बिना दर बढ़ाए बिजली की सुविधा देने ऑर्गेनिक खेती पर सब्सिडी बढ़ाने खेत के पास फ़ूड प्लांट लगाने पर सहायता देने जैसी बजट घोषणाओं को दोहराया. वहीं, सरकार की भिक्षावृत्ति को रोकने और उनकी पुनर्स्थापना को लेकर भाजपा के उठाए सवालों का भी जवाब दिया. 

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में प्रदेश में चिकित्सा व्यवस्था को बेहतर करने के लिए 2000 चिकित्सा अधिकारियों के अतिरिक्त पद सृजित करने जयपुर और जोधपुर में परकोटे जैसे संकरे क्षेत्रों में बाइक एंबुलेंस सेवा शुरू करने और भरतपुर में स्टार्टअप इनक्यूबेशन सेंटर खोलने सहित कई अहम घोषणाएं की.