CM ने बूंदी बस हादसे के मृतकों को दी श्रद्धांजलि, फिर बोले कुछ ऐसा कि सभी रो पड़े

मृतकों के लिए आयोजित की गई शोक सभा के दौरान सीएम गहलोत ने शोक संतप्त परिवार को सांत्वना देते हुए हर संभव मदद का आश्वासन दिया. 

CM ने बूंदी बस हादसे के मृतकों को दी श्रद्धांजलि, फिर बोले कुछ ऐसा कि सभी रो पड़े
सीएम ने कहा की इस घटना को लेकर जांच भी कराई जाएगी.

बूंदी: लाखेरी बस हादसा न केवल कोटा बल्कि पूरे प्रदेश को दुखी कर गया. एक ही परिवार के 15 और कुल लोगों की मौत ने हर किसी को हिला दिया. वहीं, शुक्रवार को सीएम अशोक गहलोत और नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल कोटा पहुंचे और मृतकों के लिए आयोजित की गई शोक सभा में भाग लेते हुए हादसे में सभी मृतकों को श्रद्धांजलि दी.बता दें कि, राजस्थान को हिला देने वाला हादसा लाखेरी में हुई एक परिवार के 15 सदस्यों के मौत के मामले को लेकर प्रदेश सरकार परिवार के साथ हर तरह से साथ  खड़ी नज़र आ रही है. 

मृतकों के लिए आयोजित की गई शोक सभा के दौरान सीएम गहलोत ने शोक संतप्त परिवार को सांत्वना देते हुए हर संभव मदद का आश्वासन दिया. साथ ही सीएम ने कहा कि हम जो भी घोषणा इस परिवार की मदद के लिए कर रहे है उन सबके लिखित आदेश भी जारी कर रहे है, ताकि इस परिवार को किसी तरह की कोई दिक़्क़त न हो. वहीं, सीएम ने कहा की इस घटना को लेकर जांच भी कराई जाएगी जो ख़ुद कोटा सम्भागीय आयुक्त करेंगे. जिसकी जांच रिपोर्ट 7 दिन में सरकार के समक्ष पेश होगी.

cmbus

 

इस दौरान नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने भी शोक ग्रस्त परिवार को ढांढस बंधाया और कहा कि 2 लाख रुपय प्रति व्यक्ति के अलावा हर परिवार को 5 लाख रुपय का मुआवजा अलग से दिया जाएगा. वहीं, इसके साथ कॉलेज तक की मुफ्त शिक्षा के अलावा करीब आधा दर्जन सरकारी योजनाओं का भी लाभ पीड़ित परिवार को मिलेगा.

बहरहाल, एक ही परिवार के 15 और कुल दो दर्जन लोगों की अकाल मौत के बाद जो क्षति कोटा के इस परिवार ने झेली है उसकी क्षतिपूर्ति तो संभव नहीं. लेकिन सूबे के संवेदनशील सीएम ने खुद मृतकों के परिजनों के बीच पहुंचकर जिस तरह से पीड़ित परिवारों के भविष्य की आवश्यकताओं को लेकर घोषणाएं की हैं. इससे जरुर पीड़ित परिवार को सम्बल मिला है. लेकिन देखना ये भी होगा कि इतने बड़े हादसे के जिम्मेदार लापरवाहों पर सीएम के इस सख्त रवैये के बाद सरकारी मशीनरी जिम्मेदारों को किस तरह से और कितनी जल्दी कटघरे में खड़ा कर पाती है.