कोरोना रोकथाम को लेकर CM गहलोत गंभीर, निजी अस्पतालों को भी दिए ये विशेष निर्देश

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिए सरकारी अस्पतालों में बेहतरीन व्यवस्थाएं की गई हैं, लेकिन कई बार मरीज स्वयं ही सरकारी अस्पताल की बजाय निजी अस्पताल में इलाज को प्राथमिकता देते हैं. 

कोरोना रोकथाम को लेकर CM गहलोत गंभीर, निजी अस्पतालों को भी दिए ये विशेष निर्देश
अधिकारी सुनिश्चित करेंगे कि मरीजों को निजी अस्पतालों में इलाज के दौरान परेशानी नहीं हो.

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने प्रदेशभर के निजी अस्पतालों में कोरोना मरीजों के समुचित इलाज की व्यवस्थाओं के लिए मरीजों, अस्पतालों और राज्य सरकार के बीच समन्वय सहयोग के लिए नोडल अधिकारियों को सक्रिय किया है. 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने इन अधिकारियों से लोगों का जीवन बचाने के क्रम में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका को पूरी संवेदनशीलता के साथ निभाने की अपील की है. ये अधिकारी सुनिश्चित करेंगे कि मरीजों को निजी अस्पतालों में इलाज के दौरान परेशानी नहीं हो. 

यह भी पढ़ें- जब सतीश पूनिया को PM मोदी ने नहीं छूने दिए थे पैर, कही थी ऐसी बात, आज भी है याद

कोरोना संक्रमण के नियंत्रण को लेकर विशेष चर्चा
सीएम ने शुक्रवार शाम को मुख्यमंत्री निवास से संभागीय आयुक्तों, जिला कलक्टरों, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों और नोडल अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से कोरोना संक्रमण के नियंत्रण में सभी स्तर के अधिकारियों की भूमिका पर विस्तृत चर्चा की. उन्होंने कहा कि सभी नोडल अधिकारी राज्य सरकार, केन्द्र सरकार सुप्रीम कोर्ट की ओर से समय-समय पर जारी किए गए दिशा-निर्देशों का बारीकी से अध्ययन करें और कोरोना के मरीजों तथा निजी अस्पतालों के बीच सेतु का काम करें. 

सरकारी अस्पतालों में बेहतरीन व्यवस्थाएं की गईं 
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिए सरकारी अस्पतालों में बेहतरीन व्यवस्थाएं की गई हैं, लेकिन कई बार मरीज स्वयं ही सरकारी अस्पताल की बजाय निजी अस्पताल में इलाज को प्राथमिकता देते हैं. निजी अस्पताल कोरोना के साथ संघर्ष में पहले से ही राज्य सरकार का पूरा सहयोग कर रहे हैं. अब बीते कुछ दिनों में अधिक सर्दी और त्योहारी सीजन के कारण मरीजों की संख्या बढ़ने के चलते निजी अस्पतालों की भूमिका भी बढ़ गई है. ऐसे में, मरीजों और अस्पतालों के बीच आपसी सहयोग के लिए नोडल अधिकारियों की आवश्यकता है.

गहलोत ने कहा कि नोडल अधिकारी निजी अस्पतालों में बेड उपलब्धता की सही जानकारी देने और सभी आवश्यक संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित करवाने में कोरोना संक्रमितों और उनके परिजनों की सहायता करेंगे. अधिकारी यह भी सुनिश्चित करेंगे कि मरीजों का राज्य सरकार द्वारा निर्धारित दरों पर ही इलाज हो. साथ ही, वे निजी अस्पतालों के चिकित्सकों तथा प्रबंधन के साथ समन्वय कर उनके जरूरी मुद्दों, दवाओं, उपकरणों आवश्यकताओं के बारे में जिला प्रशासन और राज्य सरकार को सूचित करेंगे.