close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान में मोटर व्हीकल एक्ट के कारण मची लाइसेंस लेने की होड़, जानें पूरा मामला

अब नए मोटर व्हीकल एक्ट में बिना लाइसेंस वाहन चलाने पर 5 हजार रुपए तक जुर्माना भरना पड़ेगा. ऐसे में 5 हजार देने का डर लोगों को सता रहा है. 

राजस्थान में मोटर व्हीकल एक्ट के कारण मची लाइसेंस लेने की होड़, जानें पूरा मामला
बिना लाइसेंस वाहन चलाने पर अभी तक 500 रुपए का जुर्माना किया जाता है.

दामोदर/जयपुर: राजस्थान में एक सितंबर से लागू हो रहे नए मोटर व्हीकल एक्ट के भारी-भरकम जुर्मानों का डर लोगों को सता रहा है. बिना लाइसेंस वाहन चलाने वालों में अब लाइसेंस लेने की होड़ मची है. ऐसे में आरटीओ में लाइसेंस आवेदकों की संख्या अचानक बढ़ गई है. आलम यह है कि लर्निंग से लेकर स्थाई लाइसेंस लेने वाले हजारों लोग कतार में खड़े हैं. लाइसेंस लेने वालों को 17 दिन बाद तारीख मिल रही है. यह स्थिति तब है जब परिवहन विभाग ने लाइसेंस के स्लॉट में बढ़ोतरी कर दी है.

27 अगस्त तक करीब 3500 लोगों ने स्थाई लाइसेंस के लिए आवेदन कर रखा है. बिना लाइसेंस वाहन चलाने पर अभी तक 500 रुपए का जुर्माना किया जाता है. वहीं अब नए मोटर व्हीकल एक्ट में बिना लाइसेंस वाहन चलाने पर 5 हजार रुपए तक जुर्माना भरना पड़ेगा. ऐसे में 5 हजार देने का डर लोगों को सता रहा है. 

यही स्थिति लर्निंग लाइसेंस में देखने को मिल रही है. अभी तक आरटीओ में लर्निंग लाइसेंस के लिए आवेदन के 2 दिन बाद ही टेस्ट की तारीख मिल जाया करती थी, लेकिन यहां भी 15 दिन बाद की तारीख दी जा रही है. खुद परिवहन अधिकारी भी इस बात को स्वीकार कर रहे हैं कि लोगों में लाइसेंस के लिए प्रति जागरूकता तो बढ़ी है. लेकिन नए मोटर व्हीकल एक्ट का डर भी है.

इधर जिन लोगों ने लाइसेंस बनवा लिए है, उन्हें भी नए एक्ट के जुर्माने का डर है, क्योंकि डाक और आरटीओ की अव्यवस्था के चलते लोगों के घर लाइसेंस नहीं आ रहे हैं. ऐसे में लोग एक सितंबर से पहले ही लाइसेंस हासिल करना चाह रहे हैं. लाइसेंस नहीं आने के कारण लोग आरटीओ और डाक विभाग के चक्कर लगा रहे हैं.