अजमेर: कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल का बड़ा बयान, केंद्र की हिंदू-मुस्लिम राजनीति घातक

हार्दिक पटेल ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार देश में मजहबी आधार पर भेदभाव की नीति पर काम कर रही है. 

अजमेर: कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल का बड़ा बयान, केंद्र की हिंदू-मुस्लिम राजनीति घातक
हार्दिक पटेल ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार देश में मजहबी आधार पर भेदभाव की नीति पर काम कर रही है.

मनवीर सिंह, अजमेर: गुजरात कांग्रेस (Congress) के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल ने आरोप लगाया है कि केंद्र की बीजेपी सरकार देश में हिन्दू-मुसलमानों के बीच भेद कर रही है, जो विकास की राजनीति के लिए घातक है.  

हार्दिक पटेल ने आज अजमेर पहुंच कर सूफी संत ख्वाजा मोईनुद्दीन चिश्ती की दरगाह की जियारत की और मखमली चादर और अकीदत के फूल पेश कर देश में अमन चैन की दुआ मांगी.  

यह भी पढ़ें- LIST: 12 जिलों में निकाय चुनावों को लेकर कांग्रेस ने की पर्यवेक्षक नामों की घोषणा

हार्दिक पटेल ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार देश में मजहबी आधार पर भेदभाव की नीति पर काम कर रही है. यह विभाजनकारी नीति देश के विकास की सबसे बड़ी बाधा बनी हुई है. हार्दिक पटेल ने कहा कि देश तभी विकास कर सकता है, जब इस देश में सब मोहब्बत के साथ रहे और एक साथ मिल कर विकास के पैमाने तय किए जाएं. हार्दिक पटेल ने इस अवसर पर केंद्र सरकार और गुजरात सरकार को कोरोना जैसी महामारी से निबटने में नाकाम करार देते हुए कोरोना से हुई मौतों के लिए भी जिम्मेदार ठहराया. 

हार्दिक पटेल ने ख्वाजा साहब की दरगाह को रूहानी सकून देने वाली बारगाह करार देते हुए कहा कि तीन साल पहले उन्होंने अजमेर पहुंच कर ख्वाजा साहब की दरगाह की जियारत की थी. इस समय उन्होंने यहां हर साल आ कर अपनी अकीदत पेश करने की बात भी कही थी लेकिन गुजरात सरकार द्वारा उन पर लगी पाबंदी के चलते वे दरगाह शरीफ नहीं आ पाए. अब वे कोशिश करेंगे कि यह सिलसिला फिर से कायम हो. इस अवसर पर हार्दिक पटेल के साथ राजस्थान वक्फ बोर्ड के चैयरमेन खानूखां बुधवाली भी मौजूद रहे.