राजस्थान विधानसभा से कांग्रेस सदस्यों ने किया वॉकआउट

राज्य सरकार पर किसानों की परेशानियों को नजरअंदाज करने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस के विधायकों ने सोमवार को राजस्थान विधानसभा से वॉकआउट किया.

राजस्थान विधानसभा से कांग्रेस सदस्यों ने किया वॉकआउट
गृह मंत्री ने कहा कि कांग्रेस इस मुद्दे पर गंभीर है तो, उसे स्थगन प्रस्ताव के जरिये सदन में इस मुद्दे को उठाना चाहिए.(प्रतीकात्मक फोटो)

जयपुर: राज्य सरकार पर किसानों की परेशानियों को नजरअंदाज करने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस के विधायकों ने सोमवार को राजस्थान विधानसभा से वॉकआउट किया. कांग्रेस विधायकों ने आरोप लगाते हुए कहा कि जिन किसानों की फसल बारिश और ओलावृष्टि से खराब हो गई है, उनकी परेशानियों को राज्य सरकार नजरअंदाज कर रही है. कांग्रेस के मुख्य सचेतक गोविंद सिंह डोटासरा ने सोमवार को शून्यकाल में इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि सरकार को किसानों की कोई चिंता नहीं है. आपको बता दें कि बीते फरवरी महीने में बेमौसम बरसात और ओलावृष्टि से किसानों की फसल खराब हो गई थी. 

ये भी पढ़ें : राजस्थान के कॉलेजों में लागू होगा ड्रेस कोड, नहीं पहन सकेंगे जींस और टी-शर्ट

सदन की कार्यवाही चलने दें- विधानसभा अध्यक्ष 
विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल ने कांग्रेस के विधायकों से आग्रह करते हुए कहा कि वे सदन की कार्यवाही चलने दें, लेकिन वे हंगामा करते रहे. हंगामा करते हुए कांग्रेस के विधायक सदन के बीचोबीच आ गये. इस दौरान सत्तारूढ़ पार्टी और विपक्ष के सदस्यों ने एक दूसरे पर आरोप लगाये. इसके बाद कांग्रेस सदस्यों ने सदन से वॉकआउट किया. 

ये भी पढ़ें : बीबी और उसके प्रेमी ने दी इतनी यातना कि युवक ने कर ली खुदकुशी

मुद्दे पर सुर्खियां हासिल करने का प्रयास- गृह मंत्री
राज्य सरकार में गृह मंत्री गुलाबचंद कटारिया ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस मुद्दे पर सुर्खियां हासिल करने का प्रयास कर रही है. कटारिया ने कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने बिना किसी विलंब के फसलों को हुए नुकसान का अनुमान लगाने के लिए एक रिपोर्ट तैयार करने के आदेश दिए हैं. राज्य सरकार ने इस मामले में तत्काल कदम उठाये थे. उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस इस मुद्दे पर गंभीर है तो, उसे स्थगन प्रस्ताव के जरिये सदन में इस मुद्दे को उठाना चाहिए.