जयपुर: कांग्रेस विधायक ने विधानसभा में कही ऐसी बात कि सभी नेता रह गए हैरान, फिर...

राजेंद्र गुढ़ा यहीं नहीं रूके. उन्होंने पूर्व की भाजपा सरकार को भी भ्रष्टाचार की महारथी बताया. कहा पहले तो हर ट्रैक्टर, ट्रक वाले के पैसे सीएम तक पहुंचते थे. उस समय दाल में काला नहीं था, पूरी दाल ही काली थी.

जयपुर: कांग्रेस विधायक ने विधानसभा में कही ऐसी बात कि सभी नेता रह गए हैरान, फिर...
कांग्रेस विधायक ने ऐसी बात कह दी जिससे सब हैरत में पड़ गए.

भरत राज/जयपुर:  राजस्थान विधानसभा में पुलिस और जेल पर चर्चा के दौरान कांग्रेस के ही विधायक ने ऐसी बात कह दी जिससे सब हैरत में पड़ गए. विधायक राजेंद्र गुढ़ा ने कहा कि यहां सब सत्यवादी के जैसे बातचीत कर रहे हैं, जबकि इनमें से कई भ्रष्टाचारों के सरदार हैं. उन्होंने कहा कि मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा. मेरा दिमाग में कुछ तो हो गया है.मैं तो यह कह सकता हूं कि भ्रष्टाचार की शुरुआत विधानसभा से होती है. अगर यहां के 200 सदस्य तय कर ले कि भ्रष्टाचार नहीं होना है तो कोई माई का लाल भ्रष्टाचार नहीं कर सकता लेकिन इसकी शुरुआत यहीं से होती है.

भाजपा सरकार पर भी लगाया आरोप
राजेंद्र गुढ़ा यहीं नहीं रूके. उन्होंने पूर्व की भाजपा सरकार को भी भ्रष्टाचार की महारथी बताया. कहा पहले तो हर ट्रैक्टर, ट्रक वाले के पैसे सीएम तक पहुंचते थे. उस समय दाल में काला नहीं था, पूरी दाल ही काली थी. इसके साथ ही कहा यहां सब ईमानदारी की बात करते हैं लेकिन कोई नहीं है. मैं तो कह सकता हूं कि मैं भी सौ फीसदी ईमानदार नहीं हूं.

चुनाव में झूठा शपथ पत्र देते
लगातार चुनावों में कम खर्चे की मांग उठती रही है, लेकिन गुढ़ा ने चुनाव में प्रत्याशियों की ओर से दिए जाने वाले शपथ पत्र को ही झूठा करार दे दिया. कहा सभी खूब पैसा खर्च करते हैं और झूठा शपथ पत्र पेश करते हैं.

लालचंद कटारिया, गुलाबचंद कटारिया, रमेश मीणा ईमानदार
इस दौरान उन्होंने कहा कि सब ईमानदारी की बात करते हैं लेकिन सब ईमानदार नहीं है. मैं लालचंद, गुलाबचंद, रमेश मीणा के लिए कह सकता हूं कि यह ईमानदार है. लेकिन मैं देवनानी के लिए नहीं कह सकता.

आज सब पता है कि कैसे बीट अधिकारी चालान पेश करता है. अपराधियों को पकड़ता है. उसमें नाम कैसे कटते हैं. नाम कैसे जोड़ते हैं. सीएम क्या करता है. मंत्री क्या करता है. यहां पुलिस अधिकारी बैठे आईपीएस में बैठे हैं मुझे हरिश्चंद्र तो कोई लगा नहीं. आज कौन सा डिपार्टमेंट इमानदार है यह तो बता दो. इस दुनिया में इंसान के रंग को कोई नहीं पहचान सकता, वह कब किस की बैंड बजा दे. आज कोई सा भी जानवर हो उसके हाव-भाव से उसके व्यवहार को पता चल जाता है लेकिन इंसान का पता नहीं चल पाता.