राजस्थान: गुर्जर आरक्षण पर किरोड़ी सिंह बैंसला का वीडियो वायरल, विरोधियों ने किया पलटवार

कर्नल किरोडी सिंह बैंसला के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियों के बाद एक बार फिर से गुर्जर आंदोलन चर्चाओं में है.

राजस्थान: गुर्जर आरक्षण पर किरोड़ी सिंह बैंसला का वीडियो वायरल, विरोधियों ने किया पलटवार
एमबीसी आरक्षण को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई है.
Play

जयपुर: राजस्थान में गुर्जर आरक्षण आंदोलन के मुखिया कर्नल किरोडी सिंह बैंसला ने गहलोत सरकार को 15 फरवरी का समझौता याद क्या दिलाया. इसके बाद उनके धुर विरोधी हिम्मत सिंह ने बैंसला पर हमला बोल दिया. हिम्मत सिंह ने बैंसला को उन्हीं की ही बीजेपी सरकार से एमबीसी आरक्षण को नवीं अनूसूची में जोड़वाने की बात कही.

कर्नल किरोडी सिंह बैंसला के सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियों के बाद एक बार फिर से गुर्जर आंदोलन चर्चाओं में है. दरअसल हर बार की तरह इस बार भी गुर्जर आरक्षण का मामला हाईकोर्ट चला गया है. 

हाइकोर्ट में दी गई है चुनौती
एमबीसी आरक्षण के खिलाफ अभिमन्यु शर्मा ने हाईकोर्ट में चुनौती दी है. जिसके बाद कर्नल किरोडी सिंह बैंसला ने सरकार को सीधे तौर पर चेतावनी दी है कि मेरे आरक्षण पर आंच आई तो चुप नहीं बैठूंगा. 

कोर्ट पर जताया भरोसा
हालांकि दूसरे ही पल उन्होने न्यायपालिका पर पूरा विश्वास जताया. लेकिन यदि एमबीसी आरक्षण बार फिर से हाईकोर्ट में अटका तो बैंसला का अगला कदम क्या होगा. हालांकि महाराष्ट्र म मराठाओं को मुंबई हाईकोर्ट में 13 फीसदी आरक्षण को मंजूरी दी है. जबकि 10 फीसदी आर्थिक आरक्षण पर भी कोर्ट ने हरी झंडी दिखाई है.

हिम्मत सिंह ने किया पलटवार 
कर्नल के इस बयान के बाद उनके धुर विरोधी हिम्मत सिंह ने पलटवार का कोई मौका नहीं छोडा. हिम्मत सिंह ने किरोडी बैंसला पर निशाना साधते हुए कहा कि किरोडी बैंसला बयानबाजी की बजाय अपनी पार्टी बीजेपी से कहे कि एमबीसी आरक्षण को संविधान की नवीं अनुसूची में शामिल करे. यदि बीजेपी सरकार ने ऐसा किया होता तो आज मामला हाईकोर्ट में नहीं पहुंचता.

लाइव टीवी देखें-:

वसुंधरा सरकार ने भेजा था प्रस्ताव
हालांकि पिछली वसुंधरा सरकार ने केंद्र सरकार को नवीं अनूसूची में शामिल होने का प्रस्ताव भेजा था, लेकिन अब तक गुर्जर आरक्षण नवीं अनुसूची में शामिल नहीं हो पाया. जिसके बाद अब मामला फिर से कोर्ट में चला गया. अब गुर्जर नेताओं के साथ साथ सरकार को भी कोर्ट के फैसले का इतंजार रहेगा.