श्री कर्ण नरेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय, जोबनेर का दीक्षान्त समारोह, राज्यपाल ने किया संबोधित

राज्यपाल कलराज मिश्र (Governor Kalraj Mishra) ने कहा है कि कृषि उद्यमों में कृषि शिक्षा प्राप्त विद्यार्थियों की भागीदारी बढायी जाने की जरूरत है.

श्री कर्ण नरेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय, जोबनेर का दीक्षान्त समारोह, राज्यपाल ने किया संबोधित
फाइल फोटो

जयपुर: राज्यपाल कलराज मिश्र (Governor Kalraj Mishra) ने कहा है कि कृषि उद्यमों में कृषि शिक्षा प्राप्त विद्यार्थियों की भागीदारी बढायी जाने की जरूरत है. उन्होंने भारतीय खेती को अधिक उत्पादक, आकर्षक एवं रोजगारोन्मुखी बनाने के लिए कृषि विश्वविद्यालयों को शिक्षण, अनुसंधान और प्रसार शिक्षा के जरिए प्रभावी प्रयास किए जाने का भी आह्वान किया. 

मिश्र राजभवन से श्री कर्ण नरेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय, जोबनेर के तीसरे दीक्षान्त समारोह में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि कृषि विश्वविद्यालयों को अपने ‘एग्री-बिजनेस सेंटर’ द्वारा युवाओं को नेटवर्किंग और कृषि आधारित स्टार्टअप स्थापित करने के लिए विशेष रूप से प्रोत्साहित करना चाहिए. 

राज्यपाल मिश्र ने कृषि विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों, शिक्षकों और वैज्ञानिकों को कृषकों के परम्परागत और अनुभव आधारित ज्ञान का कृषि विकास में समुचित उपयोग किए जाने का भी आह्वान किया. उन्होने खेतों में फसल उगाने वाले किसानों को ‘कृषि वैज्ञानिक’ बताते हुए कहा कि पुरखों से सीखे उनके ज्ञान, खेती आधारित व्यावहारिक अनुभवों का लाभ कृषि विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को खेतों में जाकर लेना चाहिए. विश्वविद्यालय इस तरह के व्यावहारिक पाठ्यक्रम बनाए जिससे खेतों मे काम करने वाले किसानों से संवाद कर उनके परम्परागत ज्ञान को शिक्षण में लागू किया जा सके.

 किसानों के लिए उच्च गुणवत्ता वाले बीजों की उपलब्धता अभी भी बड़ी चुनौती है. इसे स्वीकार करते हुए विश्वविद्यालय संस्थागत प्रयास करे. उन्होंने कर्ण नरेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय के विभिन्न केन्द्रों पर 6 नए बीज विधायन संयंत्र स्थापित करने और सब्जियों तथा नकदी फसलों के बीज उत्पादन का कार्य शुरू करने की सराहना भी की.

ये भी पढ़े: कोरोना के चलते जयपुर एयरपोर्ट पर लागू हुए नए नियम, बिना निगेटिव रिपोर्ट एंट्री बंद