धौलपुर: इनामी डकैत रामविलास-रघुराज गुर्जर पर कसा शिंकजा, हथियार संग 4 गिरफ्तार

चचोखर के जंगलों में मुठभेड़ के दौरान गिरफ्तार किए गए डकैतों के कब्जे से, पुलिस ने दो राइफल बंदूक के साथ, दो देसी तमंचा और 90 जिंदा कारतूस बरामद किए हैं.

धौलपुर: इनामी डकैत रामविलास-रघुराज गुर्जर पर कसा शिंकजा, हथियार संग 4 गिरफ्तार
डकैतों को पकड़ने के लिए पुलिस ने विशेष सर्च अभियान की शुरुआत की गई थी.

भानु शर्मा/धौलपुर: राजस्थान के धौलपुर पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए 45 हजार के इनामी डकैत, रामविलास गुर्जर और 35 हजार के इनामी डकैत रघुराज गुर्जर सहित दो अन्य डकैतों को गिरफ्तार किया है. चचोखर के जंगलों में मुठभेड़ के दौरान गिरफ्तार किए गए डकैतों के कब्जे से, पुलिस ने दो राइफल बंदूक के साथ, दो देसी तमंचा और 90 जिंदा कारतूस बरामद किए हैं. डकैत रामविलास गुर्जर व रघुराज गुर्जर राजस्थान के टॉप दस अपराधियों में शामिल रहा है, जो भरतपुर-धौलपुर और करौली इलाके में आतंक का पर्याय बने हुए थे. डकैत रामविलास गुर्जर गैंग का सफाया कर, पुलिस ने बड़ी राहत की सांस ली है.

पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छावा ने कहा कि, पिछले तीन महीने से डकैतों और अपराधियों की धरपकड़ के लिए डांग क्षेत्र में, विशेष सर्च अभियान की शुरुआत की गई थी. डकैतों की धरपकड़ अभियान के दौरान, पुलिस ने दो दर्जन से अधिक कुख्यात इनामी डकैतों को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है. इसमें डकैत जगन गुर्जर, लाल सिंह गुर्जर, भरत गुर्जर पुलिस की कामयाबी का बड़ा हिस्सा रहा है.

एसपी कच्छावा ने कहा कि, पिछले लंबे समय से रामविलास गुर्जर और रघुराज गुर्जर फरार चल रहे थे. जिसके सदस्यों को पुलिस पूर्व में गिरफ्तार कर चुकी थी. लेकिन दोनों पुलिस की गिरफ्त से लगातार दूर बने हुए थे. बीती देर रात बसईडांग थाना पुलिस को मुखबिर के जरिए सूचना मिली थी कि, चचोखर के जंगलों में डकैत रामविलास गुर्जर अपने अन्य साथियों के साथ छिपा हुआ है.

इसके बाद, बसईडांग थाना प्रभारी कैलाश गुर्जर ने रैकी कर सभी डकैतों को चिन्हित किया था. डकैत गैंग को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की डीएसटी टीम आरएसी के जवान के अलावा, आधा दर्जन थाना प्रभारियों की टीम गठित की गई. भारी पुलिस बल के साथ डकैतों को जंगल में घेर लिया गया. लेकिन पुलिस की आहट को देख डकैतों ने फायरिंग शुरू कर दी.

वहीं, करीब एक घंटे तक पुलिस और डकैतों में जमकर मुठभेड़ हुई. पुलिस की जवाबी कार्रवाई को देख चारों डकैतों ने हथियारों सहित पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया. आत्मसमर्पण करने वाले डकैतों में रामविलास गुर्जर और रघुराज गुर्जर, 5 हजार का इनामी बंटी गुर्जर एवं डकैतों को हथियार एवं रसद सामग्री उपलब्ध कराने वाला सहयोगी सचिन गुर्जर को गिरफ्तार कर लिया गया.

एसपी ने कहा कि, डकैतों के कब्जे से पुलिस ने दो राइफल, दो देसी तमंचा एवं 90 जिंदा कारतूस बरामद किए हैं. डकैत रामविलास गुर्जर पर हत्या, हत्या के प्रयास, अपहरण, लूट, डकैती, रंगदारी जैसे 30 से अधिक मामले दर्ज हैं. जबकि डकैत रघुराज पर 18 संगीन मामले दर्ज हैं.

डकैत भरतपुर संभाग में आतंक का पर्याय बन चुके थे. एसपी ने कहा कि, डकैत रामविलास गुर्जर गैंग का पूरी तरह से सफाया कर दिया गया है. मौजूदा वक्त में डांग क्षेत्र में डकैत केशव और डकैत बैजू पुलिस की रडार पर हैं. जिन्हें पुलिस द्वारा शीघ्र गिरफ्तार किया जाएगा.