कोरोना ने जीवन के प्रति हमारी सोच बदली: CM अशोक गहलोत

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के सुखी एवं समृद्ध जीवन विषयक पांच दिवसीय कार्यशाला में ई-प्रमाण पत्र वितरण समारोह को सम्बोधित किया. 

कोरोना ने जीवन के प्रति हमारी सोच बदली: CM अशोक गहलोत
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने संबोधन में कहा कि कोरोना महामारी ने जीवन के प्रति हमारी सोच को बदला है.

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के सुखी एवं समृद्ध जीवन विषयक पांच दिवसीय कार्यशाला में ई-प्रमाण पत्र वितरण समारोह को सम्बोधित किया. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने संबोधन में कहा कि कोरोना महामारी ने जीवन के प्रति हमारी सोच को बदला है. इसने भौतिकतावाद की ओर तेजी से बढ़ रहे हमारे कदमों को थामा है. यह उचित समय है कि हम ऐसे विषयों पर चर्चा करें जिनसे सुखी और समृद्ध जीवन की तरफ बढ़ा जा सके. जब तक हम आदर्श जीवन मूल्यों को नहीं अपनाएंगे, हमारा जीवन खुशहाल नहीं हो सकता. ऐसे में जरूरी है कि विद्यार्थियों को शिक्षा प्रदान करने के साथ- साथ उनका चरित्र निर्माण भी हो.

ये भी पढ़ें : राजस्थान HC में मनु की प्रतिमा हटाने को लेकर कार्यकर्ताओं ने सोनिया गांधी को लिखा पत्र

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी की चुनौती को हमने अवसर के रूप में लेते हुए हैल्थ सेक्टर को मजबूत किया है. इसी तरह के नवाचार हर क्षेत्र में किए जाए. उन्होंने कहा कि आज अर्थव्यवस्था बेहद नाजुक दौर में है. लोगों की आजीविका प्रभावित हुई है. हमें यह सोचना है कि जरूरतमंद लोगों को किस तरह संबल दिया जाए. इस दिशा में ऐसी कार्यशालाएं महत्वपूर्ण साबित हो सकती हैं.

तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने कहा कि संकट की इस घड़ी में राजस्थान ने गवर्नेस का नया मॉडल पेश करते हुए लोकतंत्र में लोगों की आशाओं को पूरा करने का प्रयास किया है. उन्होंने कहा कि कोटा एवं बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय सम्बद्ध कॉलेजों के विकास में अपनी भूमिका निभाएं. 

उच्च शिक्षा राज्य मंत्री भंवरसिंह भाटी ने कहा कि कॉलेज शिक्षा से जुड़े विद्यार्थियों ने कोरोना के दौरान सेवाभाव के साथ काम किया है. उन्होंने कहा कि हमारी शिक्षा मानवीय मूल्यों से प्रेरित हो और तकनीकी ज्ञान का मानव समाज के लिए उपयोग हो. हम ऐसी तकनीक खोजें, जिनसे पर्यावरण का नुकसान नहीं हो. बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति  एचडी चारण ने कहा कि विश्वविद्यालय में सुखी और समृद्ध जीवनशैली के लिए आनंदम कोर्स प्रारम्भ करने की तैयारी की गई है.

ये भी पढ़े: 81 रुपये प्रति लीटर हुए डीजल के दाम, जानिए क्या हैं आज पेट्रोल के रेट?