कोरोना हुआ बेकाबू: जयपुर में कोरोना मरीजों का बढ़ रहा आंकड़ा, लागू की धारा 144

शहर में अचानक कोरोना संक्रमण (Coronavirus) की लहर चल गई है. पिछले कुछ दिनों से जयपुर में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है.

कोरोना हुआ बेकाबू: जयपुर में कोरोना मरीजों का बढ़ रहा आंकड़ा, लागू की धारा 144
फाइल फोटो

जयपुर: शहर में अचानक कोरोना संक्रमण (Coronavirus) की लहर चल गई है. पिछले कुछ दिनों से जयपुर में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है. नगर निगम चुनाव, दीपावली की खरीदारी के बाजारों में भीड़ हुई लोग मुफ्त में कोरोना की बीमारी घर लाए परिवार के परिवार, समूह के समूह संक्रमित हो गए हैं. कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या दिनोंदिन बढ़ रही थी. ऐसे में जिला प्रशासन द्वारा एहतियातन जयपुर में 21 नवंबर से आगामी आदेशों तक धारा 144 लागू कर दी गई है. 

गृह विभाग से मिले परामर्श के बाद राजधानी जयपुर में जिला कलेक्टर ने धारा 144 दी है. ये 21 नवंबर रात 12 बजे से लागू होगी. इसके तहत अब 5 से अधिक व्यक्ति एक साथ समूह में नहीं रह सकेंगे. वहीं, रैली, जुलूस, जनसभाएं और सार्वजनिक समारोह पर पूरी तरह बैन रहेगा. हालांकि इससे शादी समारोह और अंतिम संस्कार जैसी गतिविधियां प्रभावित नहीं होगी. ये गतिविधियां राज्य सरकार की ओर से जारी प्रोटोकॉल की पालना करते हुए की जा सके. जिला कलेक्टर से जारी आदेशों के मुताबिक इस धारा में लगे प्रतिबंध से राजकीय अनुमत स्थल जैसे बस स्टेण्ड, रेलवे स्टेशन, चिकित्सालय, राजकीय एवं सार्वजनिक कार्यालय, निर्वाचन प्रक्रिया, विद्यालय व महाविद्यालयों में होने वाली परीक्षा प्रभावित नहीं होंगे. हालांकि बाजार, चौराहों, पार्क इत्यादि में 5 से अधिक व्यक्ति या उससे ज्यादा में समूह बनाकर एकत्र नहीं हो सकेंगे.

शादी में रहेगी 100 मेहमानों की अनुमति
भले ही जिले में धारा 144 लागू कर दी हो, लेकिन इससे शादी-समारोह में सरकार ने जो छूट दी है वह प्रभावित नहीं होगी. शादी समारोह में सरकार से मिली छूट के अनुसार कोविड नियमों की पालना करते हुए अधिकतम 100 व्यक्तियों के आने की अनुमति रहेगी. इसके अलावा अंतिम संस्कार में भी 20 व्यक्तियों के आने की अनुमति रहेगी.

अतिरिक्त जिला कलेक्टर इकबाल खान ने कोरोना की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए यह आदेश जारी किया. खान ने कहा कि शहर में दिनोंदिन संक्रमण विकराल रूप ले रहा है ऐसे में जनता के हित में जिला प्रशासन द्वारा यह फैसला लिया गया है.

ये भी पढ़ें: राजस्थान ACB की रडार पर घूसखोर, बाड़मेर में रिटायर्ड RAS और दलाल गिरफ्तार