भीलवाड़ा में मिला कोरोना का मरीज, 10 दिन बाद नया केस

बीते 20 मार्च को बृजेश बांगड़ मेमोरियल हॉस्पिटल के एक चिकित्सक और उसके बाद लगातार इसी हॉस्पिटल से जुड़े 28 लोगों के कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. 

भीलवाड़ा में मिला कोरोना का मरीज, 10 दिन बाद नया केस
भीलवाड़ा को कोरोना मुक्त जिला घोषित कर दिया था.

दिलशाद खान/भीलवाड़ा: देश भर ने कोरोना से जंग पर पहले चरण की जीत हासिल कर मॉडल बन चुके भीलवाड़ा के लिए, अब बाहरी लोग खतरा बनने लगे हैं. 10 दिन बाद रविवार को जोधपुर से लौटे एक युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से, प्रशासन की सांसे फूल गई है.

बता दें कि बीते 20 मार्च को बृजेश बांगड़ मेमोरियल हॉस्पिटल के एक चिकित्सक और उसके बाद लगातार इसी हॉस्पिटल से जुड़े 28 लोगों के कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. इसके बाद प्रशासन और चिकित्सा टीमों ने दिन-रात एक कर कोरोना से पहले चरण की जंग को जीत लिया था.

CM ने घोषित किया था कोरोना मुक्त जिला
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने भी बीते दिनों भीलवाड़ा को, कोरोना मुक्त जिला घोषित कर दिया था. लेकिन 10 दिन बाद जोधपुर से भीलवाडा के विजयसिंह पथिक अपने माता-पिता से मिलकर लौटे तो, एक युवक की सैंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई.

1 हजार से ज्यादा सैंपल पेंडिंग
इसके बाद चिकित्सा महकमा सकते में आ गया. वहीं, पिछले 6 से 7 दिनों में भेजे गए करीब एक हजार से ज्यादा सैंपल पेंडिंग हैं. इनमें भी अधिकांश सैंपल कोरोना हॉ़टस्पॉट (Hotspot) इलाकों से लौटे लोगों के बताए जा रहे हैं. वहीं, कोरोना संक्रमण एक से दूसरे शहर में न फैले, इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने आह्वान किया है कि जो, जहां है, वहीं रहें.

सीमाएं की गई सील
इधर, अन्य जिलों व प्रदेशों से लोग शहर में प्रवेश नहीं कर सके, इसके लिए जिले की सीमाएं भी सील की गई है. इसके बावजूद कोरोना हॉटस्पॉट सेंटर्स कर्नाटक, गुजरात, इंदौर, जौधपुर, जयपुर सहित अन्य जिलों से बड़ी संख्या में लोग हर दिन भीलवाड़ा पहुंच रहे हैं. इनमें भी जो लोग चेकपोस्ट तक आ गए हैं, उनके चिकित्सा विभाग सैंपल ले रहा है. साथ ही, ऐसे लोगों को क्वारेटाइन सेंटर या होम आइसोलेशन में कर रहा है.