Rajasthan में Congress की नई टीम का काउंट डाउन शुरू, कार्यकारी अध्यक्ष पर भी हो रहा मंथन

माना जा रहा है कि प्रभारी अजय माकन के लिए कांग्रेस के सभी खेमों को साधने के साथ कार्यकारी अध्यक्ष बनाने का फैसला लेने और संगठन महासचिव की नियुक्ति करने का निर्णय बड़ी चुनौती बना हुआ है.

Rajasthan में Congress की नई टीम का काउंट डाउन शुरू, कार्यकारी अध्यक्ष पर भी हो रहा मंथन
फाइल फोटो

जयपुर: राजस्थान में कांग्रेस (Rajasthan Congress) की नई टीम को लेकर मंथन अपने अंतिम दौर में हैं माना जा रहा है कि इस महीने के आखिर में कांग्रेस के नई टीम का ऐलान किया जा सकता है, लेकिन नई टीम के ऐलान से पहले कांग्रेस के भीतर दो कार्यकारी अध्यक्ष बनाने संगठन महासचिव के पद को लेकर जद्दोजहद जारी है. माना जा रहा है कि प्रभारी अजय माकन के लिए कांग्रेस के सभी खेमों को साधने के साथ कार्यकारी अध्यक्ष बनाने का फैसला लेने और संगठन महासचिव की नियुक्ति करने का निर्णय बड़ी चुनौती बना हुआ है.

प्रदेश कांग्रेस की संभावित नई टीम को लेकर काउंट डाउन शुरू हो चुका है. दिसंबर माह के अंत तक या फिर जनवरी के पहले सप्ताह में पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) की नई टीम सामने आ सकती है. नई टीम को लेकर होमवर्क पूरा हो चुका है.  प्रदेश प्रभारी अजय माकन जल्द ही प्रदेश कांग्रेस की संभावित सूची को मंजूरी के लिए एआईसीसी को भेज सकते हैं. एआईसीसी की मंजूरी के बाद कार्यकारिणी की घोषणा हो सकती है. 

वहीं, बड़ी बात ये है कि डोटासरा की नई टीम के साथ ही प्रदेश कांग्रेस में एक कार्यकारी अध्यक्ष भी हो सकता है. कार्यकारी अध्यक्ष के नाम पर जयपुर से दिल्ली तक चर्चाएं तेज हैं. कांग्रेस गलियारों में चल रही चर्चाओं की माने तो कांग्रेस का खेमा संगठन में संतुलन के बनाए रखने के लिए एक कार्यकारी अध्यक्ष के नाम पर अड़ा हुआ है. कार्यकारी अध्यक्ष को लेकर दिल्ली में बैठकों में मंथन भी हुआ है. चर्चा है कि कांग्रेस में एक गुट ने दो वरिष्ठ नेताओं के नाम कार्यकारी अध्यक्ष के लिए आगे किए हैं. इसके अलावा प्रदेश के संगठन महामंत्री पद को लेकर चर्चाएं तेज हैं. 

अध्यक्ष के बाद सबसे महत्वपूर्ण माने जाने वाले संगठन महामंत्री के पद पर मुख्यमंत्री (CM Ashok Gehlot) अपने किसी विश्वासपात्र को इस पद पर नियुक्त कराना चाहते हैं. सूत्रों की माने तो डोटासरा की नई टीम में सोशल इंजीनियरिंग का फॉर्मूला भी दिखाई देगा. जातिगत और क्षेत्रीय समीकरणों के लिहाज से कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं को प्रदेश कार्यकारिणी में एडजस्ट करने की बात कही जा रही है. बताया जाता है कि प्रदेश कांग्रेस की संभावित कार्यकारिणी में पुराने और अनुभवी चेहरों के साथ ही नए चेहरों को भी मौका दिया जा रहा है. कार्यकारिणी में एडजस्ट होने के लिए पिछले एक सप्ताह से कांग्रेसी नेता जयपुर से दिल्ली तक दौड़ लगा रहे हैं. ऐसे में देखना होगा कि प्रभारी अजय माकन पीसीसी की इस नई टीम में कांग्रेस के सभी खेमों को कैसे साधते हैं.

ये भी पढ़ें: राजस्थान में New Year 2021 की पूर्व संध्या पर जश्न-आतिशबाजी पर प्रतिबंध