झालावाड़: नहरों के ओवरफ्लो होने से किसानों की सैकड़ों बीघा फसल बर्बाद

नहरों की देख-रेख के लिए 5 चौकीदार भी लगाए गए हैं लेकिन लापरवाही (Carelessness) की वजह से कोई भी कदम नहीं उठाया गया और किसानों का लाखों का नुकसान हुआ है.

झालावाड़: नहरों के ओवरफ्लो होने से किसानों की सैकड़ों बीघा फसल बर्बाद
नहर ओवरफ्लो होने की वजह से खेतों में पानी भर गया और सैकड़ों बीघा फसल जलमग्न हो गई.

महेश परिहार, झालावाड़: भीम सागर बांध (Bhimsagar Dam) की नहरों से किसानों को सिंचाई के लिए पानी छोड़ा जा रहा है लेकिन जल संसाधन विभाग के कर्मचारियों की लापरवाही (Carelessness) के चलते नहर ओवरफ्लो हो गई. इसके चलते पनवाड़ क्षेत्र के 5 गांवों के सैकड़ों बीघा खेत जलमग्न हो गए हैं. खेतों में जलभराव से कटी हुई फसलें भी बर्बाद हो गई. 

वहीं धान की फसल को भी खासा नुकसान पहुंचा है. नहरों की देख-रेख के लिए 5 चौकीदार भी लगाए गए हैं लेकिन लापरवाही (Carelessness) की वजह से कोई भी कदम नहीं उठाया गया और किसानों का लाखों का नुकसान हुआ है.
जाहिर है किसान कभी प्रकृति की मार झेलता है तो कभी प्रशासन की उदासीनता उसे भारी पड़ती है. ऐसा ही इस बार भी देखने को मिला है. भीम सागर बांध (Bhimsagar Dam) से फसलों की सिंचाई के पानी का किसान इंतजार करते हैं, जिससे किसान अपनी फसलों को पानी दे अपने भविष्य को संवार सकें लेकिन इस बार पानी ने ही उनकी फसलों को लील लिया है और कारण है प्रशासन की लापरवाही (Carelessness). 

दरअसल, भीम सागर बांध (Bhimsagar Dam) से नहरों से सिंचाई के लिए पानी छोड़ा गया, जिससे किसान अपने खेतों की सिंचाई कर सके लेकिन नहर ओवरफ्लो होने की वजह से खेतों में पानी भर गया और सैकड़ों बीघा फसल जलमग्न हो गई. जलभराव के कारण उन किसानों को भी खासी परेशानी का सामना करना पड़ेगा, जिन्होंने रबी की फसल के लिए खेत तैयार कर रखे थे. ऐसे में जलभराव के बाद रबी की बुवाई करने में करीब 15 दिन की और देरी होगी. 

देख-रेख के लिए लगाए गए 5 चौकीदार
जल संसाधन विभाग ने नहरों में बहाव की देख-रेख के लिए 5 चौकीदार लगाए हुए हैं लेकिन लापरवाही (Carelessness) के कारण नहरों का पानी डायवर्ट नहीं किया जा सका और ओवर फ्लो से खेत जलमग्न हो गए. बहरहाल जल संसाधन विभाग के अधिकारी लापरवाह कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की बात कहकर पल्ला झाड़ चुके हैं.