नागौर में उड़ी कर्फ्यू की धज्जियां, राशन लेने के लिए लगी लंबी कतारें

सरकारें लोगों से लॉक डाउन की पालना करने और सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करने की अपील बार बार कर रही है.

नागौर में उड़ी कर्फ्यू की धज्जियां, राशन लेने के लिए लगी लंबी कतारें
फाइल फोटो. डॉ. विकास पाठक एसपी नागौर ने कर्फ्यूग्रस्त कस्बा बासनी का दौरा किया था.

हनुमान तंवर, नागौर: कोरोना (Coronavirus) के संक्रमण को रोकने के लिए देशभर में लॉक डाउन लगा हुआ है. सरकारें लोगों से लॉक डाउन की पालना करने और सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करने की अपील बार बार कर रही है. जिन क्षेत्रों में पॉजिटिव केस मील रहे हैं या मिले हैं वहां कर्फ्यू लगाया गया है, लेकिन इन सब के बावजूद लापरवाही नहीं छोड़ रहे हैं.

कहीं न कहीं यह लापरवाही ही हमारे सुरक्षा घेरे को तोड़ रही है. नागौर का बासनी क्षेत्र लगातार हॉटस्पॉट बना हुआ है और अब तक 100 से ज्यादा मामले अकेले बासनी से सामने आ चुके हैं. वहीं, बासनी में ही ड्यूटी करने वाली एक एएनएम से संक्रमण नागौर शहर में भी पहुंच गया, जिसके चलते नागौर शहर के कई क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया. 

नागौर के नया दरवाजा, बाड़ी कुआ और घोशिवाड़ा में कर्फ्यू घोषित किया गया है, लेकिन यहां मंगलवार को उस समय बड़ी लापरवाही सामने आई जब कर्फ्यू के बीच प्रशासन ने राशन सामग्री पहुंचाई तो वहां भारी भीड़ जमा हो गई. जहां ना तो सोशल डिस्टेंसिंग की पालना हो रही थी ना लॉक डाउन और कर्फ्यू की. 

लोग लंबी कतारें लगाकर एक दूसरे से सटे हुए ही लाइनों में खड़े थे, लेकिन उनको न तो को रोकने वाला था और ना ही टोकने वाला. आपको बता दें कि जिला प्रशासन ने राशन डीलरों को तो लॉक डाउन में घर-घर राशन पहुंचाने के लिए पाबंद किया हुआ है. ऐसे में कर्फ्यूग्रस्त संक्रमित क्षेत्र में लोगों तक राशन सामग्री पहुंचाने में प्रसाशन की यह लापरवाही कहीं भारी नहीं पड़ जाए. कहीं न कहीं यह भीड़ अपने आप मे कोरोना के संक्रमण को न्योता देने का काम कर रही है.

 

ये भी पढ़ें: निजी कंपनियां नहीं मान रहीं PM की बात, बिना नोटिस निकालने का सिलसिला जारी