Dausa के दिव्यांगों के लिए मसीहा से कम नहीं हैं विधायक Murari Lal Meena, किया यह काम

दौसा विधायक मुरारी लाल मीणा ने विकास से हटकर एक अच्छी पहल की है, पहल है जरूरतमंद और असहाय दिव्यांगों का जीवन संवारने की. 

Dausa के दिव्यांगों के लिए मसीहा से कम नहीं हैं विधायक Murari Lal Meena, किया यह काम
दिव्यांगों को मोटराइज्ड ट्राई स्कूटी दिए जाने के बाद उनके परिजनों की खुशी का भी ठिकाना नहीं है.

लक्ष्मी अवतार, दौसा: कहते हैं दीन-हीन की सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं होता और न ही उससे बड़ी कोई मानवता. जरूरत पर इंसान के इंसान काम आए, इससे बड़ा कोई परोपकार भी नहीं हो सकता. 

यह भी पढ़ें- गहलोत सरकार का क्रांतिकारी कदम, राजस्थान की सत्ता में दिव्यांगों की भागीदारी पक्की

आर्थिक युग में आधुनिकता की चकाचौंध में एक और जहां लोग रिश्तों को भूलते जा रहे हैं और मानवता से दूर भाग रहे हैं, इसी बीच प्रदेश के एक विधायक दिव्यांगों का जीवन संवारने में लगे हुए हैं. विधायक ने अपने विधायक निधि कोष से खुद के विधानसभा क्षेत्र के 40 दिव्यांगों को ट्राई स्कूटी देकर उनके आवाजाही का मार्ग सुगम कर दिया. विधायक शेष बचे हुए दिव्यांगों की भी तलाश कर रहे हैं, जिससे इलाके का एक भी दिव्यांग स्कूटी से वंचित नहीं रहे ओर उन्हें आने जाने में तकलीफों का सामना नही करना पड़े.

यह भी पढ़ें- राजस्थान: दिव्यांगजनों को मिला न्याय, कोर्ट ने पेंशन को लेकर मंत्रालय को दिया यह निर्देश

मुरारी लाल मीणा ने कहा- क्षेत्र के हर दिव्यांग की करेंगे मदद
बेशक जनप्रतिनिधि चुनावों में विकास के दावे कर चुनाव जीते हों और जीतने के बाद विकास भी करवाते हों लेकिन विकास एक सतत प्रक्रिया है, जो अपनी जगह है. दौसा विधायक मुरारी लाल मीणा (Murari Lal Meena) ने विकास से हटकर एक अच्छी पहल की है, पहल है जरूरतमंद और असहाय दिव्यांगों का जीवन संवारने की. दौसा विधायक मुरारी लाल मीणा (Murari Lal Meena) ने अपने विधानसभा क्षेत्र के 40 दिव्यांगों को विधायक निधि कोष से 28 लाख रुपये की स्वीकृति कर ट्राई स्कूटी दी है, जिससे उनके आने जाने की राह सुगम हो सके. वहीं, विधायक का कहना है विधानसभा क्षेत्र में एक-एक दिव्यांग की तलाश कर उन्हें ट्राई स्कूटी दी जाएगी, जिससे उन्हें आने-जाने में किसी भी प्रकार की तकलीफ नहीं हो.

क्या कहना है दिव्यांगों का 
विधायक द्वारा दिव्यांगों को स्कूटी सौंपे पर जाने के बाद दिव्यांगों की खुशी का ठिकाना नहीं है. दिव्यांगों का कहना है कि कहीं भी आना-जाना हो तो वह बिना किसी के सहारे आ-जा नहीं सकते थे लेकिन अब दौसा विधायक मुरारी लाल मीणा द्वारा उन्हें ट्राई स्कूटी दिए जाने के बाद उनकी आने-जाने की राह आसान हो गई. वहीं, इसमें ऐसे दिव्यांग भी शामिल हैं, जो पढ़ाई करते हैं और उन्हें स्कूल कॉलेज आने-जाने में बहुत तकलीफ होती थी लेकिन विधायक द्वारा ट्राई स्कूटी देने के बाद अब वह पूरा ध्यान पढ़ाई पर लगा सकेंगे.

जरूरतमंदों की मदद बड़ा काम है
विधायक मुरारी लाल मीणा का मानना है विकास एक प्रक्रिया है, जो होती रहती है लेकिन विकास के साथ-साथ उन जरूरतमंदों की भी मदद होनी चाहिए, जो अहसाय हैं. विधायक मुरारी लाल मीणा ने प्रदेश के सभी विधायकों से अपील भी करते हुए कहा कि जिस तरीके से दौसा विधानसभा क्षेत्र के दिव्यांगों को ट्राई स्कूटी देकर उनके जीने की राह आसान की गई है, उसी तरीके से सभी विधायक अपने अपने इलाके के दिव्यांगों को चिन्हित कर उन्हें भी ट्राई स्कूटी दें, जिससे कुछ हद तक उनका दुख दूर हो सके.

क्या कहना है दिव्यांगों के परिजनों का
दौसा विधायक मुरारी लाल मीणा द्वारा दिव्यांगों को मोटराइज्ड ट्राई स्कूटी दिए जाने के बाद उनके परिजनों की खुशी का भी ठिकाना नहीं है. परिजनों का कहना है कि भगवान ने उनके बेटे-बेटियों को दिव्यांग बनाकर उन्हें बड़ा दर्द दिया है लेकिन उस दर्द पर दौसा विधायक मुरारी लाल मीणा ने मरहम लगाने का काम किया है, जिसे भुलाया नहीं जा सकता. दिव्यांगों के परिजन विधायक मुरारी लाल मीणा का आभार जताते हुए उन्हें बारंबार धन्यवाद दे रहे हैं. परिजनों का कहना है कि जब भी इन्हें कहीं काम से बाहर आना जाना हो तो उनके सहारे के बिना नहीं जा सकते और न ही पढ़ाई कर सकते, ऐसे में विधायक द्वारा स्कूटी दिए जाने के बाद एक और जहां उन्हें आने जाने में कोई समस्या नहीं होगी तो वहीं दूसरी ओर उन्हें भी कुछ राहत मिलेगी.

विधायक की सोच ने की दिव्यांग की मदद
बेशक भगवान ने दिव्यांग बनाकर इन्हें इस दुनिया में भेज दिया हो लेकिन दौसा विधायक मुरारी लाल मीणा की तरह अगर सभी सकारात्मक सोच रखते हुए असहाय जरूरतमंद दिव्यांगों की मदद का बीड़ा उठाए तो यह दिव्यांग भी बिना किसी तकलीफ के अपना जीवन संवार सकते हैं. विधायक मुरारी लाल मीणा की इस पहल से प्रदेश के सभी विधायक और सांसद सीख लेकर प्रदेशभर के दिव्यांगों का जीवन संवारने का बीड़ा उठाते हैं तो निश्चित रूप से इन दिव्यांगों के जीवन में चार चांद लग सकते हैं.