close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: विधानसभा में गूंजा बिजली से हादसों का मामला, जांच कमेटी की हुई घोषणा

शून्यकाल में विधायक रामलाल शर्मा ने कहा कि शट डाउन होने के बाद भी लाइन में करंट आया और इससे दो लोगों की मौत हो गई.

राजस्थान: विधानसभा में गूंजा बिजली से हादसों का मामला, जांच कमेटी की हुई घोषणा
सदन में मंत्री बीडी कल्ला ने दुर्घटना की जांच के लिए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सतर्कता मुख्य कार्मिक अधिकारी और अधिशासी अभियंता की तीन सदस्यीय कमेटी की घोषणा की है.

जयपुर: राजस्थान विधानसभा में बुधवार को चौमूं के विधायक रामलाल शर्मा ने शून्यकाल में विराटनगर में 11 केवी लाइन पर हादसा होने से विद्युत कर्मी ओम प्रकाश शर्मा और एक अन्य व्यक्ति राम कुमार मीणा की मौत का मामला उठाया. विधायक रामलाल शर्मा ने कहा कि इस तरीके की घटनाएं हो रही हैं, उसके बावजूद भी विद्युत विभाग नहीं चेत रहा है. इसी मामले पर बोलते हुए उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि हर महीने अलग-अलग जगह 10 से 15 ऐसी घटनाएं होती हैं, लेकिन घटना होने के बाद उसकी जिम्मेदारी तय नहीं होती कि गलती किसकी है. 

शून्यकाल में विधायक रामलाल शर्मा ने कहा कि शट डाउन होने के बाद भी लाइन में करंट आया और इससे दो लोगों की मौत हो गई. उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि शट डाउन होने के बावजूद भी लाइन में करंट कैसे आया किसने उसे चालू किया. जबकि शट डाउन होने का समय भी लिखा जाता है और वापस चालू करने का समय भी रजिस्टर में नोट होता है. उसके बावजूद भी इतनी बड़ी गलती हुई? राजेंद्र राठौड़ ने मंत्री से मांग की कि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो इसके लिए टास्क फोर्स बनाकर काम करना चाहिए.

 

इस पर जवाब देते हुए मंत्री बीडी कल्ला ने कहा कि बिजली की लाइन सही करते हुए ओम प्रकाश शर्मा के साथ चार अन्य लोगों को करंट लगा जिसमें विद्युत कर्मी ओम प्रकाश शर्मा और अन्य व्यक्ति राम कुमार मीणा की मौत हो गई. मंत्री बीडी कल्ला ने कहा कि ऐसी घटना में कर्मचारी को मौत पर 20 लाख रुपए क्षतिपूर्ति का प्रावधान है. जबकि अन्य व्यक्ति को ₹5 लाख क्षतिपूर्ति दी जाएगी. 

सदन में मंत्री बीडी कल्ला ने दुर्घटना की जांच के लिए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सतर्कता मुख्य कार्मिक अधिकारी और अधिशासी अभियंता की तीन सदस्यीय कमेटी की घोषणा की है. इसके साथ ही इस मामले में कनिष्ठ अभियंता को निलंबित किया गया है और सहायक अभियंता को एपीओ किया गया है.