अजमेर नगर निगम की बैठक में चयनित 180 सफाई कर्मचारियों को नियुक्ति दिए जाने की मांग

इस बैठक में मृतक आश्रित कर्मचारियों के साथ ही स्मार्ट सिटी योजना को लेकर भी महत्वपूर्ण प्रस्ताव पास किए गए. 

अजमेर नगर निगम की बैठक में चयनित 180 सफाई कर्मचारियों को नियुक्ति दिए जाने की मांग
स्मार्ट सिटी योजना को लेकर भी महत्वपूर्ण प्रस्ताव पास किए गए.

मनवीर सिंह, अजमेर: नगर निगम की साधारण सभा में आज उन 180 सफाई कर्मचारियों के हितों की आवाज को बुलंद किया गया, जिन्हें डीएलबी के आदेश के चलते नियुक्ति से महरूम रखा गया है. 

नगर निगम की साधारण सभा ने आज प्रस्ताव पास कर राज्य सरकार को भेजने का निश्चय किया है, जिसमें इन सभी चयनित 180 सफाई कर्मचारियों को नियुक्ति दिए जाने की अनुशंसा की गई है. 

इसी के साथ इस बैठक में मृतक आश्रित कर्मचारियों के साथ ही स्मार्ट सिटी योजना को लेकर भी महत्वपूर्ण प्रस्ताव पास किए गए. नगर निगम महापौर धर्मेंद्र गहलोत की अध्यक्षता में आयोजित इस साधारण सभा में सबसे ज्यादा चर्चा उन 180 सफाई कर्मचारियों की नियुक्ति के लिए की गई, जिन्हें डीएलबी के आदेश से फिलहाल नियुक्ति नहीं दी जा सकी है. 

स्मार्ट सिटी के कार्यों पर भी चर्चा की गई 
बैठक में भाजपा और कांग्रेस पार्षदों ने संयुक्त रूप से इस मामले को उठाया और कहा कि मात्र एक बेनामी शिकायत के आधार पर इन नियुक्तियों पर रोक लगा दी गई जबकि वास्तविकता में पूरी नियुक्ति प्रक्रिया पारदर्शी थी इसी के बाद महापौर धर्मेंद्र गहलोत ने यह व्यवस्था दी कि इन सभी को नियुक्ति के लिए राज्य सरकार को नगर निगम की अनुशंसा के साथ पत्र लिखा जाएगा. 

इस बैठक में स्मार्ट सिटी के कार्यों पर भी चर्चा की गई लेकिन साथ ही पार्षदों ने इस बात पर भी आपत्ति व्यक्त की कि स्मार्ट सिटी बोर्ड की बैठक नियमानुसार हर महीने होनी चाहिए जबकि लंबे समय से इस बैठक का आयोजन नहीं किया जा रहा है.

महापौर धर्मेंद्र गहलोत के अनुसार, अब इस पूरे मामले में केंद्र और राज्य सरकार को अवगत कराया जाएगा. साथ ही यह सुनिश्चित करवाने की कोशिश की जाएगी कि स्मार्ट सिटी बोर्ड की बैठक हर महीने हो ताकि स्मार्ट सिटी योजना के तहत किए जाने वाले कार्यों की प्रगति और इस पर होने वाले खर्च पर नजर रखी जा सके. 

बैठक में मृतक आश्रित कर्मचारियों को लेकर भी चर्चा की गई और तय किया गया कि नगर निगम अपने अधिकार क्षेत्र में आने वाली नियमों में रियायत देकर मृतक आश्रित कर्मचारियों को राहत प्रदान करेगा.