टोंक: कंकाली माता मंदिर में जुटी भक्तों की भीड़, कोरोना बचाव का रखा गया ख्याल

कोरोना संक्रमण काल का साया चैत्र नवरात्रों की तरह ही शारदीय नवरात्रों में भी पड़ता दिख रहा है.

टोंक: कंकाली माता मंदिर में जुटी भक्तों की भीड़, कोरोना बचाव का रखा गया ख्याल
कोरोना संक्रमण काल का साया चैत्र नवरात्रों की तरह ही शारदीय नवरात्रों में भी पड़ता दिख रहा है.

पुरुषोत्तम जोशी, टोंक: देवी की उपासना के प्रतीक नौ दिवसीय नवरात्र महोत्सव का आज से आरंभ हो गया है. जिला मुख्यालय सहित जिलेभर में शारदीय नवरात्र स्थापना के साथ ही विभिन्न धार्मिक अनुष्ठानों की शुरुआत हो गई. 

कोरोना संक्रमण काल का साया चैत्र नवरात्रों की तरह ही शारदीय नवरात्रों में भी पड़ता दिख रहा है हालांकि मंदिर प्रशासन की ओर से मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं को सोशल डिस्टेंस और मास्क लगाने के लिए प्रेरित किया गया.

यह भी पढ़ें- भंवाल माता मंदिर: राजस्थान के इस मंदिर में मां को लगता है 'ढाई प्याले शराब' का भोग

कंकाली माता मंदिर के पुजारी सूरजपुरी गोस्वामी ने बताया कि कंकाली मंदिर के बाहर हाथ धोने के लिए साबुन और सैनेटाइजर की व्यवस्था की गई है ताकि श्रद्धालु कोरोना को लेकर जारी सरकारी गाइडलाइन की पालना करते हुए मंदिरों में प्रवेश करें और सोशल डिस्टेंस के साथ दर्शन कर सकें. 

बता दें नवरात्र स्थापना के साथ ही घर-घर घट स्थापना के साथ ही घरों और मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना को लेकर ऐतिहासिक कंकाली माता मंदिर में विशेष रुप से भक्तों की भीड़ रहती है, लेकिन मंदिर प्रशासन की ओर सख्त निर्देश दिए गए हैं कि बिना मास्क मंदिर में प्रवेश नही होगा और कोरोना गाईड लाइन की पालना के साथ पूजा-अर्चना की जाएगी.

शहर के आरएसी माता मंदिर, पुलिस लाइन संतोषी माता मंदिर, वैष्णो देवी माता मंदिर, संतोषी माता मंदिर, किदवई पार्क में भी नवरात्रा में देवी की विशेष पूजा-अर्चना को लेकर लोग पहुंचे. हाईवे पर स्थित श्रीयंत्र शिखर युक्त स्वर्ण दुर्गा कैलाशपति मंदिर में शनिवार से शरद नवरात्रा महोत्सव धूमधाम से मनाया जा रहा है.