धौलपुर: पुलिस महकमे ने महिला सुरक्षा को लेकर आयोजित किया प्रशिक्षण शिविर

शिक्षिकाओं व बालिकाओं को सशक्त बनाकर महिला अपराधों में कमी लाने के उद्देश्य से राजस्थान पुलिस की ओर से जनवरी 2020 से महिला शक्ति आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविरों की शुरुआत की गयी है. 

धौलपुर: पुलिस महकमे ने महिला सुरक्षा को लेकर आयोजित किया प्रशिक्षण शिविर
इस प्रकार के प्रशिक्षण शिविर धौलपुर के सभी ब्लॉक में लगाये जाएंगे.

धौलपुर: राजस्थान के धौलपुर जिला पुलिस, शिक्षा विभाग एवं महिला अधिकारिता विभाग के संयुक्त तत्वावधान में पुरानी छावनी में शिक्षिका व बालिकाओं की आत्मरक्षा हेतु प्रशिक्षण शिविर का आयोजन हुआ.  

महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने और उन्हें आत्मरक्षा के लिए सशक्त बनाने के उद्देश्य से सात दिवसीय महिला शक्ति प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया. वहीं, इसके अन्तर्गत राजकीय उच्च माध्यमिक विधालय पुरानी छावनी धौलपुर में पुलिस, शिक्षा एवं महिला अधिकारिता विभाग धौलपुर के संयुक्त तत्वावधान में ब्लॉक स्तरीय शिक्षिका, बालिका आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया. 

वहीं, इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कलक्टर राकेश जायसवाल व अध्यक्षता पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छावा ने की. इस अवसर पर कलक्टर राकेश जायसवाल ने कहा कि शिक्षिकाओं व बालिकाओं के आत्मबल को बढ़ाने तथा विषम परिस्थितियों में अपनी रक्षा स्वयं कर सके इसको लेकर महिला शक्ति आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविर की शुरुआत की हुई. इस प्रकार के प्रशिक्षण शिविर धौलपुर के सभी ब्लॉक में लगाये जाएंगे.
 
बता दें कि, पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छावा ने कहा कि शिक्षिकाओं व बालिकाओं को सशक्त बनाकर महिला अपराधों में कमी लाने के उद्देश्य से राजस्थान पुलिस की ओर से जनवरी 2020 से महिला शक्ति आत्मरक्षा प्रशिक्षण शिविरों की शुरुआत की गयी है. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि प्रशिक्षण केन्द्र पर महिलाओं व बालिकाओं के आत्मविश्वास बढ़ाने के साथ ही कानून और अपने अधिकारी के बारे में जानकारी दी जाएगी, ताकि उनका मनोबल बढ़े. 

योजना का उद्देश्य महिलाओं व बालिकाओं को दैनिक जीवन में अत्याचार, छेड़छाड़, घरेलू, हिंसा, यौन उत्पीडन, एसिड हमले आदि विपरीत परिस्थितियों का सामना आत्मविश्वास के साथ कर सके. प्रशिक्षण शिविर के दौरान विभिन्न विधालयों से आई शिक्षिकाओं व बालिकाओं को महिला कमांडो व प्रशिक्षित मास्टर ट्रैनरों द्वारा विषम परिस्थितियों में पड़ने पर आत्मरक्षा सम्बन्धी प्रशिक्षण दिया गया. मुसीबत में पडने पर किस प्रकार से अपने आत्मबल व विवेक के आधार पर विपरीत परिस्थितियों से बाहर आया जा सकता है, इसके गुर सिखाए गए.