close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में स्वच्छ भारत की गूंज, साहित्यकारों ने किया मंथन

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा कि 'स्वच्छ भारत मिशन केवल सड़क या बाहरी जगह तक सफाई के लिए अभियान नहीं था,बल्कि महिलाओं की दिक्कतों को भी कम करना था'

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में स्वच्छ भारत की गूंज, साहित्यकारों ने किया मंथन
इस सेशन में विदेशी साहित्यकारों और साहित्य प्रेमियों ने भी हिस्सा लिया

आशीष चौहान/जयपुर: ज़ी जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल से पूरी दुनिया में स्वच्छ भारत मिशन की गूंज सुनाई दी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छता मिशन को लेकर सेशन बैठक वेन्यू में सेशन हुआ,जिसमे नीति आयोग के सीईओ अभिताभ कांत मौजूद रहे. स्वच्छ भारत मिशन देश के लिए एक ऐसा नजीर बना, जो ना कहा केवल इस अभियान की देश में तारीफ हो रही है बल्कि विदेशों तक इस अभियान की जमकर तारीफ हुई. विदेशी साहित्यकारों और साहित्य प्रेमियों ने भी सेशन के जरिए यह जाना कि भारत की स्वच्छ भारत मिशन के चलते कैसे पूरी तस्वीर बदल गई.

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा कि" स्वच्छ भारत मिशन केवल सड़क या बाहरी जगह तक सफाई के लिए अभियान नहीं था,बल्कि महिलाओं की दिक्कतों को भी कम करना था. सेनेटरी नैपकिन के उपयोग से महिलाओं की दिक्कतें कम हुई. देश में अभियान से लोगों में जागरूकता फैली.  इस अभियान देश की तस्वीर बदल दी. यह अभियान देश के लिए बहुत ही जरूरी था. समय के साथ साथ इस अभियान से देश की सूरत और तस्वीर पूरी तरह से बदल दी गई है. खासकर ग्रामीण इलाकों में इस अभियान का बेहद खास असर देखा गया है."

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ साथ कई सेलिब्रिटीज ने इस अभियान में हिस्सा लिया. अमिताभ बच्चन का दरवाजा बंद करो विज्ञापन सेविंग लोगों में जागरूकता फैली और लोग शौचालय का इस्तेमाल करने ल.गे इसके अलावा  फिल्म टॉयलेट एक प्रेम कथा से भी लोगो की मानसिकता में बदलाव आया. अभिताभ कांत का कहना था कि" फ़िल्म विज्ञापनों के कारण लोगों में जागरूकता फैलाना पहला उद्देश्य था जिसमें हम पूरी तरह से सफल रहे."

इसके अलावा सेशन में जल संकट को लेकर भी चर्चा की गई देश में केवल 4 फ़ीसदी पानी ही पीने योग्य हैं ऐसे में सही समय पर पानी नहीं बचाया जा सका तो जल संकट देश में मंडरा सकता है.