कोटा: एमबीएस अस्पताल के 4 विभाग बिना आदेश के हुए शिफ्ट, प्रशासन कर रहा लीपापोती

कोटा मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने एमबीएस अस्पताल में संचालित चार विभागों की सेवाएं पिछले सप्ताह गुपचुप तरीके से 15 किलोमीटर दूर शिफ्ट कर दी.

कोटा: एमबीएस अस्पताल के 4 विभाग बिना आदेश के हुए शिफ्ट, प्रशासन कर रहा लीपापोती
कोटा मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल के कई OPD को शिफ्ट करने के बाद प्रशासन की कार्यशैली फिर से सवालों के घेरे में है. (फाइल फोटो)

मुकेश सोनी, कोटा: कोटा मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने एमबीएस अस्पताल में संचालित चार विभागों की सेवाएं पिछले सप्ताह गुपचुप तरीके से 15 किलोमीटर दूर शिफ्ट कर दी. जिस कारण मरीजों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. वहीं, मेडिकल कॉलेज प्रशासन के पूरे मामले पर पर्दा डालने की कोशिश के कारण प्रशासन की कार्यशैली फिर से सवालों के घेरे में है.

आपको बता दें कि, सम्भाग के सबसे बड़े अस्पताल एमबीएस में कुछ सप्ताह पहले कई विभागों की ओपीडी गुपचुप तरीके से बंद करके नए अस्पताल मे शिफ्ट कर दी गई है. गुपचुप तरीके हुए इस खेल कई से मरीजो को परेशानी उठानी पड़ रही है. इस कारण मरीजो को इन विभागों की सेवाओं का लाभ लेने के लिए 15 किमी का सफर तय करके नए अस्पताल जाना पड़ रहा है. 

सूत्रों के अनुसार, तीन सप्ताह तक मेडिकल कॉलेज प्रशासन को विभागों के नए अस्पताल में स्थानांतरित होने की जानकारी नहीं होने की बात कह रहा है. मीडिया में खबरें आने के बाद मेडिकल कॉलेज प्राचार्य पूरे मामले पर पर्दा डालने में लगे हुए हैं.

जी मीडिया ने जब प्राचार्य से एमबीएस में ओपीडी सेवाएं बन्द रहने के बाबत सवाल किया तो प्राचार्य इसका जवाब भी नहीं दे पाएं. लेकिन अस्पताल अधीक्षक ने दो से तीन हफ्ते तक ओपीडी बन्द रहने की बात स्वीकारी है. 

न्यूरो सर्जरी के मरीजों को हो रही है सबसे ज्यादा परेशानी

कोटा संभाग के सबसे बड़े इस अस्पताल में निकटवर्ती बारां, बूंदी, झालावाड़ के अलावा टोंक, सवाई माधोपुरशिवपुरी तक के मरीज इलाज करवाने आते है. विभाग बन्द होने से सबसे ज्यादा परेशानी न्यूरो सर्जरी के मरीजों को हुई जिन्हें 15 किमी दूरी का सफर तय करके नए अस्पताल जाना पड़ रहा है.  एमबीएस अस्पताल में न्यूरो सर्जरी विभाग में पूरे साल में करीब 300 लोगों के ऑपरेशन होता है.