पढ़ाई छोड़ चुकी बेटियों के सशक्त बना रही है डूंगरपुर नगर परिषद, ऐसे कर रही काम

पूरे देश में स्वच्छता की नजीर बन चुकी डूंगरपुर नगर परिषद बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान को लेकर भी काम कर रही है. 

पढ़ाई छोड़ चुकी बेटियों के सशक्त बना रही है डूंगरपुर नगर परिषद, ऐसे कर रही काम
मुहिम के तहत नगर परिषद की ओर से इन बेटियों को हर साल स्कूल यूनिफार्म और शिक्षण सामग्री दी जाती है.

डूंगरपुर: पूरे देश में स्वच्छता की नजीर बन चुकी डूंगरपुर नगर परिषद बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान को लेकर भी काम कर रही है. नगर परिषद की इसी मुहिम (Mission) का असर है कि अलग-अलग कारणों से स्कूल (School) छोड़ चुकी डूंगरपुर शहर की 140 गरीब घर की बेटियां (Girl) आज स्कूल से जुड़ी हुई हैं और शिक्षा के अधिकार के साथ अपने सपनों (Dreams) को पूरा करने की दिशा में आगे बढ़ रही हैं. इसी मुहिम में डूंगरपुर नगर परिषद की ओर से आयोजित एक समारोह में इन 140 बेटियों को आज तीसरे सत्र के लिए स्कूल यूनिफॉर्म (Uniforms) और शिक्षण सामग्री दी गई. 

ये भी पढ़ें: आधार सेंटर को लेकर रिश्वत खेल का हुआ बड़ा खुलासा, जयपुर से दिल्ली तक जुड़े अधिकारियों के तार

दरअसल डूंगरपुर नगरपरिषद के निवर्तमान सभापति के के गुप्ता ने दो साल पहले बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत शहर की गरीब बेटियों को शिक्षा से जोड़ने की मुहिम की शुरुआत की थी. जिसके तहत नगर परिषद ने अलग-अलग कारणों से स्कूल छोड़ चुकी गरीब घर की 140 बेटियों को गोद लेते हुए उनकी शिक्षा का खर्च उठाया और उन्हें दोबारा शिक्षा से जोड़ा. इसी मुहिम के तहत नगर परिषद की ओर से इन बेटियों को हर साल स्कूल यूनिफार्म और शिक्षण सामग्री दी जाती है. वहीं, इस साल भी तीसरे सत्र में नगर परिषद की ओर से इन बेटियों को आज एक समारोह में स्कूल यूनिफॉर्म और शिक्षण सामग्री बांटी गई. शहर के विजयाराजे सिन्धिया ऑडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम में पूर्व सांसद ताराचंद भगोरा, निवर्तमान सभापति के के गुप्ता और नगरपरिषद आयुक्त नरपत सिंह राजपुरोहित ने इन 140 बेटियों को स्कूल युनिफॉर्म और शिक्षण सामग्री वितरित की.

इस मौके पर कार्यक्रम में मौजूद अतिथियों ने जीवन में शिक्षा का महत्व बताते हुए सभी ने नगर परिषद की इस मुहिम की प्रशंसा की. उन्होंने कहा कि जीवन में शिक्षा का बड़ा महत्व है उसमें भी खासकर बालिका शिक्षा का. अतिथियों ने कहा कि एक बेटी पढ़ती है तो पूरा परिवार शिक्षित होता है. 

ऐसे में अतिथियों ने बेटियों को शिक्षा से जुड़े रहकर ऊंची सोच के साथ के अपने सपनों को साकार करने का आव्हान किया. वहीं इस मौके पर नगर परिषद आयुक्त नरपतसिंह राजपुरोहित ने कहा कि जो मुहिम दो साल पहले शुरू की गई थी और उस मुहिम को और आगे बढ़ाया जाएगा और आने वाले समय में गरीब घर की और बेटियों को भी गोद लेते हुए उन्हें भी शिक्षा से जोड़ा जायेगा. उन्होंने ये भी कहा कि नगरपरिषद की ओर से बेटियों को सशक्त और आत्मनिर्भर बनाने के लिए और भी कई काम किये जा रहे हैं. 

रिपोर्ट- अखिलेश शर्मा
स्क्रिप्ट- सतेंद्र यादव

ये भी पढ़ें: 3 महीने की संविदा भर्ती के लिए उमड़ी बेरोजगारों की भीड़, कहा-जान से ज्यादा नौकरी की जरूरत