नई आबकारी नीति में इंट्रेस्टेड नहीं डूंगरपुर के शराब ठेकेदार, होगी परेशानी

नई आबकारी नीति के तहत ठेकेदारों को शराब की दुकान चलाने में भारी कठिनाइयां आ सकती हैं, जिसके चलते शराब की दुकान के लिए आवेदन करने में शराब ठेकेदार रूचि नहीं दिखा रहे हैं.

नई आबकारी नीति में इंट्रेस्टेड नहीं डूंगरपुर के शराब ठेकेदार, होगी परेशानी
डूंगरपुर जिले में शराब की 38 दुकानों के लिए आवेदन मांगे गए हैं. इसमें से सागवाड़ा और डूंगरपुर शहरी क्षेत्रों के लिए 10 अंग्रेजी दुकानों और ग्रामीण क्षेत्र की 28 कंपोजिट दुकानें शामिल हैं.

अखिलेश, डूंगरपुर: शराब ठेके के लिए आवेदन को लेकर इस साल डूंगरपुर जिले के शराब ठेकेदारों में रुझान नहीं दिख रहा है. पिछली बार 38 दुकानों के लिए 2 हजार 623 आवेदन आए थे, वहीं, इस बार आंकड़ा 776 पर अटक गया है.

माना जा रहा है कि नई आबकारी नीति के तहत ठेकेदारों को शराब की दुकान चलाने में भारी कठिनाइयां आ सकती हैं, जिसके चलते शराब की दुकान के लिए आवेदन करने में शराब ठेकेदार रूचि नहीं दिखा रहे हैं.

दरसअल, डूंगरपुर जिले में शराब की 38 दुकानों के लिए आवेदन मांगे गए हैं. इसमें से सागवाड़ा और डूंगरपुर शहरी क्षेत्रों के लिए 10 अंग्रेजी दुकानों और ग्रामीण क्षेत्र की 28 कंपोजिट दुकानें शामिल हैं. इसमें कंपोजिट दुकानों में अंग्रेजी और देशी दोनो ही तरह की मदिरा बेचने का प्रावधान है. शराब की दुकानों के लिए आवेदन का आज आखिरी दिन है. अंतिम तिथि के एक दिन पहले तक शहरी क्षेत्र की 10 दुकानों के 593 आवेदन आए हैं जबकि पिछले साल यह आंकड़ा 1674 था.

वहीं, ग्रामीण क्षेत्र की 28 दुकानों के लिए पिछले साल 929 आवेदन आए थे जबकि इस बार सिर्फ 183 आवेदन ही प्राप्त हुए हैं. जिला आबकारी अधिकारी महेंद्र सिंह शेखावत ने बताया कि पिछले साल के मुकाबले आवेदन का आंकड़ा कम है लेकिन अंतिम तिथि का समय समाप्त होने से पहले बड़ी संख्या में आवेदन आ सकते हैं.