Dungarpur को हरा भरा करने के लिए तैयार किए गए 12 लाख से अधिक पौधे, मानसून में रोपे जाएंगे
Advertisement
trendingNow1/india/rajasthan/rajasthan2283436

Dungarpur को हरा भरा करने के लिए तैयार किए गए 12 लाख से अधिक पौधे, मानसून में रोपे जाएंगे

Dungarpur News: राजस्थान में डूंगरपुर जिले का वन विभाग मानसून में पौधरोपण की तैयारियों में जुटा हुआ है. डूंगरपुर जिले को और हरा भरा बनाने को लेकर वन विभाग की ओर से 16 नर्सरियों में 12 लाख से अधिक पौधे तैयार किए गए हैं, जिसके तहत ढाई लाख पौधे पंचायतो को ढाई लाख पौधे निकायों को वितरित किये जायेंगे

Dungarpur News - ZEE Rajasthan

Dungarpur News: जिले का वन विभाग मानसून में पौधरोपण की तैयारियों में जुटा हुआ है. डूंगरपुर जिले को और हरा भरा बनाने को लेकर वन विभाग की ओर से 16 नर्सरियों में 12 लाख से अधिक पौधे तैयार किए गए हैं, जिसके तहत ढाई लाख पौधे पंचायतो को ढाई लाख पौधे निकायों को वितरित किये जायेंगे. वही शेष पौधों को आम लोगो को वितरण करने के साथ वन विभाग वन क्षेत्र में लगाएगा.

बॉडी-डूंगरपुर जिले के डीएफओ रंगा स्वामी ने बताया कि मानसून में वन क्षेत्रों के बाहर पौधरोपण कर हरे-भरे क्षेत्र को विकसित किया जाएगा.  योजना के तहत डूंगरपुर जिले में 12 लाख 64 हजार 265 पौधो के रोपण का लक्ष्य है . इसमें से डूंगरपुर नगर परिषद् व सागवाड़ा नगर पालिका में ढाई लाख पौधे लगाने का लक्ष्य है .  वहीं डूंगरपुर, आसपुर, बिछीवाड़ा, चिखली, दोवड़ा, गलियाकोट, झौथरी, साबला, सागवाड़ा व सीमलवाड़ा पंचायत समिति क्षेत्र में ढाई लाख पौधे लगाने का लक्ष्य है . वही शेष पौधे वन विभाग अपने वन क्षेत्र में और आम लोगो को वितरण करेगा.

यह पौधे किये जा रहे तैयार
वन विभाग के  डीएफओ रंगा स्वामी ने बताया कि, विभाग की ओर से 16 नर्सरी में अलग-अलग तरह के पौधे तैयार करवाए जा रहे है . इसमें सागवान,अर्जुन, अशोक, आम, कचनार, खैर, गुलमोर, चंदन, जलकरंज, जामुन, नीम, पपीता, पारस पीपल, आमलताश, अमरुद, अनार, ईमली, खिरनी, पीपल, बहेड़ी, बरगद, सेमल, हवन, बिलपत्र, बांस, बैर, महुआ, मीठा नीम, शीशम, सेहजन सहित कई छायेदार व फलदाय पौधे तैयार करवाए जा रहे है. उन्होंने बताया कि वन विभाग फलदार पौधे ज्यादा तैयार करवा रहा है जिससे आमजन को और अधिक लाभ मिले .

पौधे लगाकर करे जिले का हरा भरा
डीएफओ रंगा स्वामी ने बताया कि आम लोगों, कृषकों, पर्यावरण प्रेमी, निजी व व्यवसयिक संस्थाए व औद्योगिक ईकाई के क्षेत्र से जुड़े लोग भी पौधशाला से कम दरों पर पौधे ले सकते हैं. नर्सरी में छह माह व 12 माह दोनों तरह के पौधें उपलब्ध होंगे .

Trending news