बीकानेर पंचायत चुनाव: पहले चरण के लिए चुनाव प्रचार बंद, जानें सरपंच के लिए ग्रामीणों की पसंद

बीकानेर में पहले चरण में होने वाले 129 ग्राम पंचायतों के लिए मतदान को लेकर उम्मीदवार अपना पूरा जोर लगा रहे हैं तो वहीं, पंचायत चुनावों के दौरान व्यवस्थाओं को सुचारू बनाए रखने के लिए प्रशासन ने भी कमर कस ली है.

बीकानेर पंचायत चुनाव: पहले चरण के लिए चुनाव प्रचार बंद, जानें सरपंच के लिए ग्रामीणों की पसंद
प्रथम चरण के लिए हो रहे पंचायत चुनाव का प्रचार का शोरगुल थम गया है.

त्रिभुवन रंगा, बीकानेर: पंचायत चुनाव का प्रचार थमने के साथ ही चुनाव परवान पर चढ़ गया है. प्रत्याशी और उनके समर्थक घर-घर जाकर संपर्क कर रहे हैं तो वहीं, एक-दूसरे को मनाने का भी दौर तेज होता नजर आ रहा है.

बीकानेर में पहले चरण में होने वाले 129 ग्राम पंचायतों के लिए मतदान को लेकर उम्मीदवार अपना पूरा जोर लगा रहे हैं तो वहीं, पंचायत चुनावों के दौरान व्यवस्थाओं को सुचारू बनाए रखने के लिए प्रशासन ने भी कमर कस ली है.

प्रशासन ने संवेदनशील और अति संवेदनशील केंद्रों को चिन्हित कर वहां हथियार बंद जवान तैनात कर दिए हैं. जिला कलेक्टर भी मतदान केंद्रों का निरक्षण कर निष्पक्ष मतदान के निर्देश दे रहे हैं.

प्रथम चरण के लिए हो रहे पंचायत चुनाव का प्रचार का शोरगुल थम गया है. उम्मीदवारों और उनके समर्थक जत्थे या झुंड के रूप में वोट मांगते नजर नहीं आएंगे. बल्कि उम्मीदवार और उनके समर्थक घर-घर जाकर द्वार-द्वार  जनसंपर्क कर रहे हैं. वहीं, प्रशासन द्वारा भय मुक्त मतदान का संदेश देने के लिए गांवो में फ्लैग मार्च करवाया जा रहा है.

सरपंच पद के उम्मीदवार भी अपने पक्ष में मतदान करने का कारण बात रहे हैं कि वो गांव के विकास के साथ साथ केंद्र और राज्य सरकार की सभी योजनाओं का लाभ जनता तक पहुचाएंगे. वहीं, ग्रामीण भी ऐसा प्रतिनिधित्व चाहते हैं, जो पढ़ा लिखा हो साथ ही गांव का विकास करे न कि अपने रिश्तेदारों का.