राजस्थान: सीमा पर बढ़ते तनाव को देखते हुए बाड़मेर जिला प्रशासन ने की आपात बैठक

बैठक के दौरान जिले के सभी सरकारी कर्मचारियों की छुट्टी रद्द करने का आदेश जारी किया गया है. 

राजस्थान: सीमा पर बढ़ते तनाव को देखते हुए बाड़मेर जिला प्रशासन ने की आपात बैठक
बाड़मेर जिला प्रशासन पूरी तरीके से एक्टिव मोड में हैं. (फाइल फोटो)

बाड़मेर: भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ता देख बाड़मेर जिला ने गुरूवार को एक बैठक की है. बैठक के दौरान किसी भी आपातकालीन स्थिति से निपटने के संबंध में तैयारियों के बाबत अधिकारियों के बीच चर्चा हुई है. बैठक के बाद जिला प्रशासन ने जिले के सभी सरकारी कर्मचारियों की छुट्टी रद्द करने का आदेश दिया है.

बताया जा रहा है कि पश्चिमी राजस्थान के बाड़मेर जिले में पाक से लगती सीमा पर स्थानीय प्रशासन अलर्ट पर है. वहीं पाकिस्तान सीमा पर पिछले कुछ दिनों से सीमा के उस पार से हलचल नजर आ रही है. वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए बाड़मेर जिला प्रशासन पूरी तरीके से एक्टिव मोड में हैं. 

आपको बता दें कि, बाड़मेर में सभी सरकारी कर्मचारियों की छुट्टी रद्द कर का आदेश दे दिया गया है. जिसके बाद गुरूवार को ही नागरिक सुरक्षा की बैठक बुलाकर आपातकालीन परिस्थिति में किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तैयारी ली गई है. 

जिला पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने की अपील

जिला कलेक्टर हिमांशु गुप्ता ने बताया कि जिला प्रशासन वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार है. जिले के किसी भी नागरिक को परेशान होने की जरूरत नहीं है. उन्होंने आम लोगों से शांति बनाए रखने की अपील भी की है.

उन्होंने बताया कि नागरिक सुरक्षा बैठक में आपातकालीन परिस्थितियों से जुड़े हर मुद्दे पर चर्चा की गई. इसके अलावा सभी अधिकारियों और कर्मचारियों के जिला मुख्यालय छोड़ने पर रोक लगाई गई है. वहीं, जिला मुख्यालय पर किसी भी आपातकालीन परिस्थिति से निपटने के लिए कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है.

संदिग्ध गतिविधियों और सोशल मीडिया पर अफवाहों की दे जानकारी

वहीं, बाड़मेर एसपी राशी डोगरा ने किसी भी संदिग्ध की जानकारी तत्काल पुलिस को देने की अपील की है. एसपी डोगरा ने बताया की सीमावर्ती जिला होने के कारण बाड़मेर को संवेदनशील माना जाता है. इसलिए यहां हमेशा अलर्ट जारी रहता है. सीमा पर वर्तमान स्थिति को देखते हुए गश्त को बढ़ा दिया गया है. साथ ही सीमावर्ती थानों में पुलिस संख्या नफरी को बढ़ा दिया गया है. 

उन्होंने आम लोगों से सोशल मीडिया पर चल रहे अफवाहों से दूर रहने और इस पर ध्यान ना देने की बात भी कही है. साथ ही ऐसे मेसेज की सूचना तत्काल पुलिस को देने की भी अपील की है. इसके अलावा किसी भी संदिग्ध व्यक्ति या वस्तु की जानकारी तुरन्त पुलिस को देने की बात कही है.