बारां में नासूर बना अतिक्रमण, जाम में फंसे वाहनों के हॉर्न से जनता परेशान

अंता कस्बे में होकर गुजरने वाले 2 मुख्य मार्गों पर इन दिनों वाहनों की रेलमपेल दिनभर बनी रहती है. ऐसे में दो बड़े वाहनों की एक साथ आवाजाही होने की स्थिति में रोड पर जाम लग जाता है और फिर शुरु हो जाता है तेज हॉर्न बजाने वाले वाहन चालकों का आतंक. 

बारां में नासूर बना अतिक्रमण, जाम में फंसे वाहनों के हॉर्न से जनता परेशान
जाम में फंसकर कतारों में लगे वाहन तेज हॉर्न बजाकर शोर प्रदूषण फैलाते नजर आते हैं

राम मेहता, बारां: जिले के अंता में चौड़े रास्तों पर अतिक्रमण (Encroachment) का नासूर बढ़ते यातायात दबाव के कारण आमजन पर भारी पड़ता जा रहा है. मुख्य सड़क मार्गों पर आए दिन जाम की समस्या के बीच वाहनों का शोरगुल लोगों के लिए परेशानी का कारण बना हुआ है लेकिन व्यवस्थाओं के सुधार के लिए ठोस कार्रवाई नहीं होने से प्रशासन के साथ-साथ आमजन भी बेबस नजर आने लगे हैं. 

अंता कस्बे में होकर गुजरने वाले 2 मुख्य मार्गों पर इन दिनों वाहनों की रेलमपेल दिनभर बनी रहती है. ऐसे में दो बड़े वाहनों की एक साथ आवाजाही होने की स्थिति में रोड पर जाम लग जाता है और फिर शुरु हो जाता है तेज हॉर्न बजाने वाले वाहन चालकों का आतंक.

जाम में फंसकर कतारों में लगे वाहन तेज हॉर्न बजाकर शोर प्रदूषण फैलाते नजर आते हैं लेकिन जाम को नियंत्रित करने के लिए पुलिस जाब्ता कहीं तैनात नजर नहीं आता, जिससे वाहन चालकों के बीच आए दिन तकरार के नजारे भी आम रहते हैं. रोड पर पसर रहे दुकानदार-मुख्य सड़क मार्ग को अवरूद्ध करने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ रहे हैं. दुकानों के अंदर का सामान रोड पर फैला देते हैं, जिससे आने वाले ग्राहकों के वाहन भी रोड के बीच तक पंहुच जाते हैं. इससे रोड का संकरा होना लाजमी है. ऐसे में यहां होकर गुजरने वाले वाहन चालकों को वाहन निकालने में काफी मशक्कत करनी पड़ती है. 

इन अतिक्रमियों को कोई रोक-टोक करने वाला नहीं होने से हालात बदतर होते जा रहे हैं. दूसरी ओर दुकानों के आगे खड़े होने वाले वाहनों के कारण भी मुख्य मार्ग संकरा बना रहता है. कस्बे में यूं तो दोनों मुख्य सड़क मार्ग काफी चौड़े हैं लेकिन अतिक्रमणों के कारण दोनों रास्तों की हालत बदहाल हो गई है.

कोटा बारां रोड तथा अस्पताल रोड पर वाहनों की भरमार रहती है. ऐसे में वाहनों की भीड़-भाड़ के बीच फंसे आड़े-तिरछे वाहनों से दुर्घटनाओं की संभावनाएं भी बनी रहती हैं. हाल ही में पुलिस महानिरीक्षक रवि गौड़ द्वारा आयोजित सीएलजी बैठक के दौरान भी रोड के अतिक्रमण का मुद्दा प्रमुखता से उठाया गया, जिस पर पुलिस अधीक्षक द्वारा थानाधिकारी को इस समस्या पर तुरंत कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए अब देखना यह है कि इस समस्या से स्थानीय नागरिकों को कब जाकर राहत मिल सकती है.