चूरू: टिड्डियों के हमले के बाद प्रशासन पर फूटा किसानों का गुस्सा, कही यह बड़ी बात

सरकार को जल्द से जल्द हवाई मार्ग से इन टिड्डी दलों को नष्ट करना चाहिए. 

चूरू: टिड्डियों के हमले के बाद प्रशासन पर फूटा किसानों का गुस्सा, कही यह बड़ी बात
प्रतीकात्मक तस्वीर.

नरेंद्र राठौड़, चूरू: सरदारशहर तहसील में पिछले एक हफ्ते में बड़ी संख्या में आए टिड्डी दलों ने नरमा कपास और मूंगफली की फसलों को पूरी तरह चट कर दिया है. इसके चलते मानो किसानों की कमर टूट गई हो. 

टिड्डी दल के आने की पहले से सूचना होने के बावजूद भी प्रशासन की ओर से इनको रोकने की किसी प्रकार की कोई व्यवस्था नहीं की गई, जिससे किसानों में भारी आक्रोश व्याप्त है.

इसी कड़ी में अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में बड़ी संख्या में किसान एसडीएम ऑफिस पहुंचे. आक्रोशित किसान उपखंड अधिकारी कार्यालय में जमीन पर लेट गए और अपना विरोध प्रकट किया. किसानों ने उपखंड अधिकारी रीना छिंपा को ज्ञापन सौंपकर टीडी दल से फसलों को हुए नुकसान का मुआवजा दिलवाने और लगातार आ रहे टिड्डी दल पर नियंत्रण करने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा. 

हवाई रास्तों से किया जाए टिड्डियों का खात्मा
अखिल भारतीय किसान सभा के प्रदेश महामंत्री छगनलाल चौधरी ने बताया कि बड़ी संख्या में आ रहे टिड्डी दल को मारने के लिए ट्रैक्टर या यहां पर उपलब्ध उपकरण निष्क्रिय साबित हो रहे हैं. अगर इन टिड्डी दलो को मारना है तो हेलीकॉप्टर या हवाई जहाज के जरिए इनको मारा जा सकता है. इसलिए सरकार को जल्द से जल्द हवाई मार्ग से इन टिड्डी दलों को नष्ट करना चाहिए. 

किसान बोले- हम पहले से ही दुखी और अब टिड्डी
किसानों ने बताया कि किसान पहले से दुखी हैं. पहले बिन मौसम हुई ओलावृष्टि और फिर कोरोना के चलते मजदूर नहीं मिलने से किसानों को भारी नुकसान हुआ और फिर जब किसानों की फसल पक चुकी थी, उस समय बिन मौसम हुई बारिश ने भी किसानों की फसलों को भारी नुकसान पहुंचाया है. अब टिड्डी दलों ने किसानों की नरमे कपास और मूंगफली की फसल को 100% नष्ट कर दिया है. 

गौरतलब है कि कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में किसानों ने अपने अन्य के भंडार खोल दिए थे, जिससे राज्य सरकार और केंद्र सरकार को बहुत बड़ा संबल प्राप्त हुआ था लेकिन अब किसानों पर टिड्डी रूपी महा संकट आ खड़ा हुआ है, जिस की ओर सरकार को ध्यान देना चाहिए, जिससे किसान आगे आने वाली सावनी की फसल को बुवाई कर सकें.